माहौल शांत होने के बाद भी चप्पे-चप्पे पर पुलिस की नजर, फ्लैग मार्च

रिपोर्ट- शिवा शर्मा

लखनऊ- लखनऊ में हालात शांतिपूर्ण हो चुका है। लेकिन चप्पे चप्पे पर पुलिस का हुज़ूम पहरे पर है। शहर के कई संवेदनशील इलाको में पुलिस की टुकड़ियों के साथ अफसर फ्लैग मार्च कर रहे है लेकिन लखनऊ का दिल कहे जाने वाला हज़रतगंज का पूरा इलाका बंद है।

19 दिसम्बर को लखनऊ में हुए विरोध प्रदर्शन के नाम पर जो हिंसा भड़की वो रूह-कपा देने वाली थी। राजधानी लखनऊ में इस तरह की घटना पहली बार हुई जिसमे न सिर्फ आगजनी बल्कि पुलिस पथराव करते हुए 4 ओबी वैन को अराजकतत्वों ने जला कर ख़ाक कर दिया और ठीक 2 दिन बाद आज फिर सड़को पर पुलिस की पिकेट चौकसी बरतती दिखी।

अफसरों के साथ कई टुकडिया इलाके में फ्लैग मार्च कर रही थी मानो। हालात बिगड़ने को थे। कुछ ख़ास इनपुट था जो शायद लखनऊ पुलिस मीडियाकर्मियों से सांझा नहीं करना चाहती थी। लेकिन अराजकतत्वों की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस ने धरपकड़ की बात कही।

पति से फोन पर बात करते-करते अचानक महिला बैठ गई सांप के जोड़े पर और फिर हुआ ऐसा…

एक चीज़ साफ़ थी की टीएमसी एक डेलिगेशन लखनऊ की हिंसा में मारे गए मोहम्मद वकील से मिलने आने वाला है शायद इसी को देखते हुए विधानसभा के आसपास का इलाका बैरिकेट कर दिया गया। या यू कहे की पुराने लखनऊ से विधानसभा तक जाने वाले मुख्य इलाके हज़रतगंज को सीज़ कर दिया गया हो। परिवर्तन चौक से लेकर हज़रतगंज इलाके तक बल्लिया लगा कर पूरे इलाके को बैरिकेट कर दिया है और दुकाने बंद करा दी गयी है।

LIVE TV