Monday , April 24 2017

केजरीवाल के ‘सीने’ पर चढ़कर नमो-नमो के नारे  

नई दिल्ली। जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 व 1000 की नोटों को बंद करने की घोषणा की है, तभी से विपक्षी दल लगातार उन पर हमला कर रहे हैं। पर आम आदमी को इस नोट बंदी से कुछ खास फर्क पड़ता नहीं दिखाई दे रहा है। इसका ताजा प्रमाण देखने को मिला है देश की राजधानी दिल्‍ली में, जहां पर हजारों युवा पीएम मोदी के समर्थन में सड़क पर उतर आये हैं।

modi

दिल्ली के सिविल लाइन इलाके में लोग उस वक्त हैरान रह गए, जब नोटबंदी के समर्थन में सैकड़ों लोग पीएम मोदी का मुखौटा पहने सड़क पर निकल आए। ‘यूथ अंगेस्ट ब्लैक मनी’ के नाम से निकाले गए इस मार्च को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास तक निकाला गया। मार्च में मौजूद 5 लोगों ने राहुल गांधी, ममता बनर्जी, मायावती, अखिलेश यादव और अरविंद केजरीवाल का मुखौटा लगा विरोध भी दर्ज कराया।

देश के कई इलाकों में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 और 1000 के नोटबंदी के फैसले का युवाओं ने समर्थन किया है। युवाओं का कहना है कि नोटबंदी का फैसला देश के नव निर्माण, विकास, आतंकवाद के खात्मे, भ्रष्टाचार के खात्मे, देश में आर्थिक समानता का सूत्रधार, कालाधन का भंडाफोड़ में सहायक साबित होगा।

प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने कहा कि कुछ विपक्षी लोग प्रधानमंत्री के फैसले के बारे में तरह-तरह के भ्रम फैलाकर अपना उल्लू सीधा करना चाहते है, इसलिए ऐसे स्वार्थी लोगों से सचेत रहकर देश के हित में प्रधानमंत्री का साथ देना चाहिए।

गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद से ही पूरा विपक्ष एकजुट होकर सरकार के फैसले के विरोध में सड़क से संसद तक उतरा है। केजरीवाल और ममता बनर्जी ने तो फैसले को वापस लेने की बात भी कही है। हालांकि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कर दिया था कि यह फैसला वापस नहीं लिया जाएगा। सरकार अपने फैसले पर अटल है।

LIVE TV