तमिलनाडु की एकमात्र ट्रांसजेंडर उम्मीदवार, इनके अन्दर है जज़्बा बड़े नेताओं से लड़ने का !

तमिलनाडु: भयंकर गर्मी पड़ रही है. दोपहर की धूप तो आंखें चौंधिया देती है. इतनी चिलचिलाती गर्मी में तो बाहर निकलने का मन ही नहीं करता, लेकिन तमिलनाडु की एम राधा इसी धूप में, इसी चिलचिलाती गर्मी में 16 अप्रैल की शाम तक पूरे साउथ चेन्नई में भटक रही थीं. क्यों? चुनाव प्रचार कर रही थीं.

दरअसल, एम राधा तमिलनाडु की इकलौती ट्रांसजेंडर उम्मीदवार हैं. किसी बड़ी पार्टी के टिकट पर नहीं, बल्कि वो निर्दलीय चुनाव लड़ रही हैं. साउथ चेन्नई लोकसभा सीट पर वो खड़ी हुई हैं.

चुनाव चिन्ह रखा है ‘कम्प्यूटर का माउस’. साउथ चेन्नई लोकसभा सीट पर 18 अप्रैल को वोटिंग होगी. और इसके लिए 16 अप्रैल की शाम 5 बजे तक प्रचार प्रसार हुआ. एम राधा ने भी खुद के लिए कैम्पेन किया.

राधा का कैम्पेन बाकी बड़े नेताओं के चुनावी प्रचार से काफी अलग था. क्योंकि बड़ी पार्टियों के नेता जहां गाड़ियों में, ढेर सारी भीड़ के साथ कैम्पेन करते हैं, तो वहीं राधा ने ऐसा कुछ भी नहीं किया.

123 साल के ये व्यक्ति मोदी को करते हैं दिल से प्यार, ये हैं सबसे बड़े समर्थक!

वो खुद ही अपने कुछ समर्थकों के साथ साउथ चेन्नई की सड़कों पर भटकीं. खूब पसीना बहाया. बड़े नेताओं की तरह राधा के पास ज्यादा पैसे नहीं थे, कुछ पैसे लोगों ने उन्हें चंदे के तौर पर दिए, तो जितने पैसे जमा हुए उसी में उन्होंने किसी तरह कैंपेनिंग की.

वो अपने 25 समर्थकों के साथ सुबह से निकल जाती थीं, बिना थके गली-कूचों, मोहल्ले में भटकती थीं और अपना पर्चा बांटती थीं. राधा को पूरा भरोसा है कि वो इस सीट पर खड़े हुए बड़े नेताओं को टक्कर देंगी.

राधा 50 साल की हैं. कुक हैं. यानी खाना बनाने का काम करती हैं. एमए तक की पढ़ाई कर रखी है. वो कहती हैं कि वो संसद में जाकर आदमी, औरत और ट्रांसजेंडर हर किसी का मुद्दा उठाएंगी.

वो महिलाओं की सुरक्षा के लिए काम करना चाहती हैं. इसके अलावा वो चाहती हैं कि लोकसभा और राज्यसभा में कम से कम एक ट्रांसजेंडर को तो होना ही चाहिए. TNIE Videos के इंटरव्यू में चुनाव लड़ने के फैसले के बारे में राधा कहती हैं,

‘ट्रांसजेंडर्स आज सरकारी नौकरी भी कर रहे हैं. उन्हें अधिकार मिल रहे हैं. लेकिन राजनीति में अभी इनकी मौजूदगी ज्यादा नहीं है. मैं चाहती हूं कि संसद तक भी ट्रांसजेंडर्स पहुंचे. इसलिए मैंने चुनाव लड़ने का फैसला लिया.’

राधा से जब सवाल किया गया, कि उनके इलाके की कौन-सी दिक्कतों को वो दूर करना चाहती हैं. जिस पर राधा ने जवाब दिया,

‘यहां पानी की बहुत कमी है. और कई बार पानी भी जमा हो जाता है. मैं इन दिक्कतों को दूर करना चाहूंगी. मैं ये सब केवल ट्रांसजेंडर्स के लिए ही नहीं करना चाहूंगी, बल्कि हर किसी के लिए ये होगा.’

बता दें कि साउथ चेन्नई लोकसभा सीट पर 18 अप्रैल के दिन वोटिंग होगी. यहां पर एआईएडीएमके के मौजूदा सांसद जे जयवर्धन एक बार फिर मैदान में हैं. डीएमके ने सुमति को उतारा है.

एमएनएम ने पूर्व आईएएस अधिकारी आर रंगराजन को उम्मीदवार बनाया है. तमिलनाडु में लोकसभा की 39 सीटें हैं. सभी पर 18 अप्रैल को ही चुनाव होंगे.

=>
LIVE TV