झांसी पुलिस ने किया अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के दाहिने हाथ अबू सलेम का साथी गिरफ्तार

9a802386611b47684937bd3c40c768b4_XLझांसी। बुन्देलखण्ड की झांसी पुलिस को अन्डर वर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के दाहिने हाथ अबू सलेम के साथी को पकड़ने में सफलता मिल गयी। झांसी के जमीन कारोबार और सटटे में उसका पैसा लगा हुआ है। पकड़े गये आरोपी युवक के साथ अन्य दो आरोपी भी पकड़े गये है। जिनके पास से 32 बोर की पिस्टल और दो जिंदा कारतूस बरामद किया गया है। 
ऐसे पकड़ा गया
झांसी के प्रेमनगर थानान्तर्गत नगरा में 6 अप्रैल को सटटा मफिया ठा. सुन्दर सिंह की पत्थरों से कुचलकर हत्या कर दी गयी थी। जिसके आरोपियों को पकड़ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनोज तिवारी के निर्देशन में प्रेमनगर पुलिस अपनी टीम के साथ लगातार गश्त कर रही थी। इसी दौरान उन्हे जानकारी हुयी हत्या के फारार आरोपी कच्चे पुल के पास है। जानकारी होते ही पुलिस बताए गये स्थान पर पहुंच गयी। जहां से पुलिस ने फरार तीन आरोपियों को पकड़ लिया। इसके बाद उन्हे थाने लाया गया। जहां उन्होंने पूछताछ में अपना नाम सरताज उर्फ गुड्डे पुत्र स्व. मुस्ताक खान निवासी आवास विकास संगम बिहार कालौनी सीपरी बाजर, तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा पुत्र निशार अहमद निवासी सिलवट गंजट थाना प्रेमनगर झांसी और आबिद पुत्र साबिर हुसैन मुन्ना निवासी स्कूलपुरा थाना प्रेमनगर बताया।

एसएससपी मनोज तिवारी ने पत्रकार वार्ता के दौरान जानकारी देते हुये बताया कि पकड़े गये तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा पुत्र निशार अहमद निवासी सिलवट गंज थाना प्रेमनगर अन्डर वर्ल्ड डॉन दाउद के दाहिना हाथ अबू सलेम का साथी है।
Abusalem2अबू सलेम से ऐसे ही हुयी थी मुलाकात
एसएसपी ने कहा कि पूछताछ में तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा ने बताया कि सन 2006 में वह मुम्बई गया हुआ था। जहां उसकी अबू सलेम के दोस्त मोटवानी बिल्डर से मुलाकात हुयी। मुलाकात के बाद मोटवानी विल्डर ने उसे अबू सलेम से मिलाया। अब्बू सलेम से मुलाकात मिलने के बाद उसने 10000 रूपए प्रतिमाह की नौकरी उसके यहां करनी शुरू कर दी। तौफीक ने अबू सलेम के साथ 2006 से 2011 तक नौकरी की। इस दौरान जब अबू सलेम महाराष्ट्र के तरोजा जेल गया हुआ तब तौफीक उसे खाना देने के लिये जेल जाता था। 2011 के बाद तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा वापस झांसी आ गया। झांसी आने के बाद तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा यहां अबू सलेम का जमीन के कारोबार में पैसा लगा। इसके अलावा अबू सलेम मुम्बई से बैठकर आईपीएल के सटटे का कारोबार चला रहा था। पकड़े गये तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा से पूछताछ की जा रही है कि उसके कितने और साथी झांसी या फिर झांसी के आस-पास घूम रहे है।

अब्बू सलेम के साथी का ये है अपराधिक इतिहास
एसएसपी ने जानकारी देते हुये बताया कि पकड़े गये तौफीक अहमद उर्फ आशिक उर्फ मराठा के साथी सरताज उर्फ गुड्डा के पास तलाशी के दौरान 32 बोर की पिस्टल और दो जिन्दा कारतूस बरामद किये गये है। सरताज के खिलाफ उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश के विभिन्न थानों एक दर्जन से अधिक संगीन मामले दर्ज है। जिनमें मध्य प्रदेश के नौगांव थाने में 379, भोपाल के ऐशबाग थाने में 394 का मामला दर्ज कर हौ। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के झांसी शहर कोतवाली थाने में एक, सात मुकदमें नवाबाद थाने में, तीन मुकदमे सदर बाजार में, एक मुकदमा प्रेमनगर थाना इलाके में दर्ज है।

टीम पुरस्कृत कर किया सम्मानित
अबू सलेम के गुर्गे व उसके साथियों को पकड़ने के लिये प्रेमनगर थाना प्रभारी दीपक मिश्रा, उपनिरीक्षक अखिलेश पाल और सर्विलांस प्रभारी मनोज मिश्रा, सिपाही देवेन्द्र यादव, देवेन्द्र सिंह, शत्रुन्जय सिंह, बृजमोहन यादव, नरेन्द्र कुमार, चन्द्र शेखर, रामनरेश, दुर्गेश सिंह चौहान, अंजुल व स्वॉट टीम शामिल थी। इस सफलता पर टीम को एसएसपी की ओर से 2500 रूपए नकद व प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की गयी है।

=>
LIVE TV