जानें क्यों मांगी थी अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से माफी

नई दिल्ली। लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह का निधन हो गया है। बीमारी के चलते सिंगापुर के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। उत्तर प्रदेश के कद्दावर नेताओं में गिने जाने वाले अमर सिंह समाजवादी पार्टी के मुखिया रहे मुलायम सिंह यादव के करीबियों में शामिल थे। इसी साल फरवरी में उन्होंने अमिताभ बच्चन से माफी भी मांगी थी।

उन्होने माफी मांगते हुए कहा है ‘आज मेरे पिता की पुण्यतिथि है और मुझे इसके बारे में अमिताभ बच्चन का मैसेज आया है। अपने जीवन के इस पड़ाव पर जब मैं जिंदगी और मौत से जूझ रहा हूं, मुझे अमित जी और उनके परिवार के लिए हद से ज्यादा बोल जाने का पश्चाताप हो रहा है। भगवान उनके परिवार को अच्छा रखे।’ आपको बता दें कि अमर सिंह पीछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे । जिसके बाद आज सिंगापुर के एक अस्पताल में इलाज के दौराना निधन हो गया। उनको किडनी से जुड़ी दिक्कत है। जिसका सिंगापुर के अस्पताल में इलाज चल रहा था।

अमिताभ बच्चन को क्या कहा था? : 2017 में अमर सिंह ने एक इंटरव्यू में कहा था, जब मैं अमिताभ बच्चन से मिला, उससे पहले से वो और जया अलग-अलग रह रहे थे। उनमें से एक प्रतीक्षा में और दूसरे अन्य बंगले में रह रहा था जिसका नाम जनक है।

साल 2012 में हुआ था विवाद : अमर सिंह और अमिताभ बच्चन के बीच विवाद की शुरुआत साल 2012 में हुई थी। साल 2012 में अनिल अंबानी के घर एक पार्टी थी। पार्टी में कई दिग्गज पहुंचे थे। पार्टी के दौरान अमर सिंह का जया बच्चन से किसी बात पर विवाद हो गया। बस यही दोनों के बीच की दूरी की वजह बनी। इसके बाद अमर सिंह ने कई बार बच्चन परिवार पर निशाना साधा।

6 जनवरी 2010 में समाजवादी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था : अमर सिंह का जन्म 27 जनवरी 1956 को यूपी में हुआ। वे समाजवादी पार्टी के महासचिव और राज्य सभा सांसद रह चुके हैं।

6 जनवरी 2010 को इन्होंने समाजवादी पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। साल 2016 में इनकी समाजवादी पार्टी में वापसी हुई।

कभी समाजवादी पार्टी के प्रमुख रहे मुलायम सिंह यादव के दाहिने हाथ माने जाने वाले अमर सिंह नवंबर 1996 में राज्यसभा के सदस्य मनोनीत किए गए।

2008 में मनमोहन सरकार द्वारा विश्वास मत हासिल करने की बहस के दौरान भाजपा के तीन सांसदों ने संसद में एक करोड़ रुपए के नोटों की गड्‍डियां दिखाई थीं। सांसदों ने आरोप लगाया कि मनमोहन सरकार ने अमर सिंह के माध्यम से उनके वोट खरीदने की कोशिश की थी।

6 सितंबर 2011 को अमर सिंह भाजपा के दो सांसदों के साथ तिहाड़ जेल भेजे गए। कैश फॉर वोट कांड में अमर सिंह को जेल हुई थी।
अमर सिंह ने राष्ट्रीय लोकमंच पार्टी की स्थापना की। 2012 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान राष्ट्रीय लोकमंच के उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई थी।

2014 में अमर सिंह ने राष्ट्रीय लोकदल से लोकसभा का चुनाव लड़ा, लेकिन बुरी तरह हारे।

अमर सिंह के परिवार में पत्नी पंकजा कुमारी सिंह और दो बेटियां हैं।

अमर सिंह ने एक म्यूजिक एल्बम की लॉन्चिंग पर कहा था, अमिताभ बच्चन एक ऐसे एक्टर हैं जो कई क्रिमिनल केसों में लिप्त हैं। पनामा पेपर्स विवाद में भी उनका नाम आ चुका है।

एक अन्य कार्यक्रम में अमर सिंह ने कहा था, ऐश्वर्या मेरी बहुत इज्जत करती है। अभिषेक ने भी आज तक मेरे खिलाफ कुछ नहीं कहा। मुझे अमिताभ बच्चन से भी कोई गिला नहीं है। उन्होंने खुद मुझे चेतावनी दी थी कि मैं जया बच्चन को पॉलिटिकल फील्ड में न उतारूं। मैंने ही उनकी भली सलाह नहीं मानी।

कहा जाता है कि साल 1996 में फ्लाइट के दौरान अमर सिंह की तत्कालीन रक्षामंत्री मुलायम सिंह से मुलाकात हुई, जिसके बाद उन्होंने राजनीति में एंट्री ली थी।

=>
LIVE TV