घाटों पर मध्यरात्रि से ही उमड़ेगा आस्था का सैलाब

jay-shri-mahankal_5718e37f54d97एजेंसी/ उज्जैन/ इंदौर। मध्यप्रदेश के उज्जैन में 22 अप्रैल से आस्था का महाकुंभ प्रारंभ हो रहा है। सिंहस्थ 2016 के महापर्व को लेकर सारे विश्व के कोने – कोने से लोग उमड़ रहे हैं। हर कोई आस्था की उन बंदों का अमृतपान करना चाहता है जो पौराणिककाल में स्वर्ग के कांतिमान खंड में गिरी थीं। पवित्र संयोग के बीच श्रद्धालु पुण्यलाभ कमाऐंगे। उज्जैन की सड़कें आज खुद ही आगंतुकों को घाटों का पता बता रही हैं।

आज मध्यरात्रि से ही श्रद्धालु स्नान पर्व का लाभ ले सकेंगे। सिंहस्थ का शाही स्नान का आनंद लेने के लिए आज सुबह से ही शहर में देशभर के श्रद्धालु जुट रहे हैं। श्री महाकालेश्वर के आंगन में अपार हाथ श्रद्धा से जुड़े हुए हैं तो मां हरसिद्धि कां आंचल आस्थावानों को आशीर्वाद देने में लगा है।

श्रद्धालु बेहद उत्साहित हैं। मध्यरात्रि को बारह बजे श्रद्धालु स्नान का आनंद कुछ घाटों पर ले सकेंगे वहीं अलसुबह प्रातः 6 बजे से साधुओं के अखाड़े स्नान और पूजन का आनंद लेंगे। साधुओं द्वारा भोर होते ही शाही अंदाज़ में स्नान के लिए घाटों  पर प्रवेश किया जाएगा। साधु संत अपने ध्वजों के साथ, अपने शिष्यों के साथ रथों पर बग्घियों पर और घोड़ों पर सवार होकर यहां पहुंचेंगे और स्नान करेंगे। सिंहस्थ की आस्था का अगला स्नान 6 मई को होगा जबकि अगला शाही स्नान 9 मई को होगा।

=>
LIVE TV