कमलनाथ का अनोखा बयान, अगर ‘नसबंदी नहीं कराई तो नौकरी जाएगी’

मध्यप्रदेश में कमल नाथ सरकार ने एक ऐसा अनिखा फरमान जारी किया है. जिसे सुनकर सभी के होश उड़ गए हैं. इस बयान के बाद सरकारी महकमे में हडकंप मचा हुआ है. राज्य सरकार ने हेल्थ वर्कर्स को कम से कम एक व्यक्ति को नसबंदी करवाने का टारगेट दिया है। टारगेट पूरा नहीं करने पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी या वेतन में भी कटौती कर दी जाएगी।

कमलनाथ

क्या है कमलनाथ का फरमान-

कमलनाथ सरकार के परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाने की दिशा में कदम उठाते हुए मध्यप्रदेश सरकार ने मेल मल्टी पर्पस हेल्थ वर्कर  को फरमान जारी कर कहा है कि जो भी हेल्थ वर्कर 2019-20 में नसबंदी के लिए एक भी आदमी को जुटाने में विफल रहा है उसका वेतन वापस लिया जाएगा और उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी।

कमलनाथ सरकार का फरमान, ज्यादा पुरुषों की नसबंदी कराएं कर्मचारी, नहीं तो भूल जाएं वेतन

सिर्फ 0.5 प्रतिशत पुरुषों ने ही कराई नसबंदी-

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 की रिपोर्ट में बताया गया है कि प्रदेश में केवल 0.5 फीसदी पुरुषों ने ही नसबंदी करवाई है। इसी रिपोर्ट के आधार पर कहा गया है कि प्रदेश के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) ने आला अधइकारियों, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से जीरो वर्क आउटपुट देने वाले पुरुष हेल्थ वर्कर्स की पहचान करने और नो वर्क नो पे सिद्धांत लागू करने को कहा है। साथ ही यह भी कहा गया है कि अगले 31 मार्च के दौरान एक भी पुरुष नसबंदी नहीं करवाने वाले वर्करों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे।

=>
LIVE TV