औरैया के लखन वाटिका के बाहर से पुलिस ने एक लावारिस ईको स्पोर्ट कार की बरामद…

कानपुर के चौबेपुर के बिकारू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में आरोपित दुर्दांत दुबे 72 घंटा बाद भी पुलिस की पकड़ से बाहर है। उसकी तलाश में प्रदेश भर में लगी सौ टीमों को अभी उसकी कुछ भनक तक नहीं लगी है, जबकि रविवार को सुबह औरैया में एक लावारिस कार मिली है। लखनऊ के नम्बर से यह ईको स्पोर्ट कार अमित दुबे के नाम से पंजीकृत है। 

औरैया के लखन वाटिका के बाहर से रविवार सुबह पुलिस ने एक लावारिस ईको स्पोर्ट कार बरामद की है। कार लखनऊ निवासी अमित दुबे की है। विकास दुबे की लोकेशन औरैया मिलने के कारण इस कार से विकास दुबे के फरार होने का कयास लगाया जा रहा है। कार के निरीक्षण के लिए फोरेंसिक टीम बुलाई गई है। इसके अलावा वीटीएस टॉवर रिपोर्ट भी निकाली जा रही है। कार से तीन परिचय पत्र तथा एक पर्स मिला। लखनऊ के जयपुरिया स्कूल का परिचय पत्र है। इस कार में खून के छींटें भी मिले हैं। चार वर्ष 11 महीने पुरानी इस गाड़ी का न तो इंश्योरेंस है और न ही गाड़ी का पॉल्यूशन सर्टिफिकेट रिन्यू है।

यूपी 112 पुलिस ने रविवार की सुबह गश्त के दौरान लखन वाटिका के बाहर ईको स्पोर्ट कार खड़ी देखी। इसके बारे में पूछताछ में कुछ पता नहीं चला। आसपास के लोगों ने बताया कि कार शनिवार से खड़ी है। कार के नंबर से चेक किया गया तो कार लखनऊ निवासी अमित दुबे की निकली। कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपित विकास दुबे की लोकेशन औरैया बताई जा रही थी और अमित दुबे की कार मिलने से विकास के इसी कार से फरार होने का अंदाजा लगाया जा रहा है।

मौके पर एसपी सुनीति व एएसपी कमलेश दीक्षित पहुंच गए है। एसपी सुनीति ने बताया की फोरेंसिक टीम बुलाकर कार खुलवाई जाएगी। इसके बाद कार के अंदर तलाशी ली जाएगी। इसके अलावा वीटीएस टॉवर रिपोर्ट निकलवाई जाएगी जिससे ये पता चला कि इस एरिया में कितने नम्बर एक्टिव रहे थे। कार का विकास दुबे से कोई कनेक्शन है, यह बिना जांच के कह पाना मुश्किल है। 

=>
LIVE TV