इतनी सीटों पर अड़े सपा मुखिया अखिलेश यादव, कांग्रेस से डील अभी फाइनल नहीं: सूत्र

कांग्रेस और समाजवादी पार्टी सोमवार देर रात अपनी लोकसभा सीट-बंटवारे की बातचीत में किसी समझौते पर पहुंचने में विफल रहीं। समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने पहले कहा था कि वह तब तक राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में हिस्सा नहीं लेंगे, जब तक कांग्रेस के साथ सीटों का बंटवारा तय नहीं हो जाता।

अखिलेश यादव ने कहा था, ”एक बार सीटों का बंटवारा तय हो जाए तो समाजवादी पार्टी कांग्रेस की न्याय यात्रा में शामिल हो जाएगी।” सूत्रों से यह भी पता चला है कि अखिलेश यादव कांग्रेस को मुरादाबाद सीट देने के लिए तैयार नहीं थे। राहुल गांधी की पार्टी ने अखिलेश से बिजनौर सीट भी मांगी, जिसे समाजवादी पार्टी ने अस्वीकार कर दिया। 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी ने मुरादाबाद सीट पर जीत हासिल की. मुरादाबाद में मेयर के चुनाव में कांग्रेस दूसरे स्थान पर रही और मामूली अंतर से हार गई। इसके अतिरिक्त, कांग्रेस अपने प्रदेश अध्यक्ष अजय राय के लिए बलिया सीट पर दावेदारी कर रही है, जिसे समाजवादी पार्टी के गढ़ों में से एक माना जाता है।

सोमवार को समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में 17 लोकसभा सीटों की पेशकश की . इसने आगामी आम चुनावों के लिए उत्तर प्रदेश से 11 और उम्मीदवारों की भी घोषणा की, जिनमें डॉन से नेता बने मुख्तार अंसारी के भाई और बसपा सांसद अफजाल अंसारी भी शामिल हैं। 30 जनवरी को समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश की 16 लोकसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की पहली सूची की घोषणा की थी।

LIVE TV