Monday , March 25 2019
Breaking News

पक्की सड़क को तरसे ग्रामीण, सरकार-प्रशासन ने साधी चुप्पी

अनूप कुमार

कुशीनगर। एक तरफ देश में लोगों के लिए एक्सप्रेस-वे बनाये जा रहे है। वहीँ दूसरी ओर इस जमाने में ऐसा गांव जहां लोगों को पैदल यात्रा के लिए भी पगडंडी के सहारे कर जिंदगी का गुजरा चलता हो तो वहां का जीवन कैसा होगा?

योगी आदित्यनाथ ने सूबे की कमान संभालने के बाद सड़को की स्थिति को सुधारनें की घोषणा की। लेकिन उनके संसदीय क्षेत्र गोरखपुर से महज 20 किमी की दूरी पर कुशीनगर जिले के विकास खण्ड कप्तानगंज का गांव सुधियानी ढाल का लाईन टोला एक ऐसा गाव है।

जहां 70 से ज्यादा परिवार रहते हैं लेकिन वहां की हालत यह है कि आज भी उस गांव में जाने के लिए पगड़न्ड़ी को छोड़ कोई अन्य रास्ता नहीं है।

गाँव में लोगों को आने जाने का दूसरा रास्ता रेलवे की पटरियों से होकर जाता है। जो खतरनाक होता है सिर्फ पैदल यात्री पार कर आते जाते है। जिसे रेलवे बन्द करने में लगा है।

ग्रामीणों ने बताया कि अपनी समस्या लेकर हम कई अधिकारियों और नेताओ के पास पहुंचे पर अब तक उनकी सुध लेने कोई नहीं आया हैं।

इस समस्या से क्षेत्रीय विधायक रामानन्द बौद्ध से बात की गई तो उन्होंने 3 महीने के भीतर उस गांव की सड़क बन जाने का दावा किया।

About publisher

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *