Wednesday , December 2 2020
Breaking News

ग्राम विकास विभाग भ्रष्टाचार में जकड़ा, प्रशासन ने दिए जांच के आदेश

मनोज त्रिपाठी

प्रतापगढ़। ग्राम विकास विभाग पूरी तरह से भ्रष्टाचार में जकड़ा हुआ है। सिर्फ प्रतापगढ़ में लगभग तीन करोड़ का घोटाला है। आप अंदाजा लगा सकते है कि पूरे प्रदेश की क्या स्थिति होगी। इस भ्रष्टाचार की बाबत जिले में तैनात रहे।

जिला समन्वयक ऑडिट डॉ असित सिंह ने सरकार और अपर निदेशक सोशल ऑडिट पर भ्रष्टाचार के गम्भीर आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, संयुक्त सचिव ग्रामीण विकास मंत्रालय, मंत्री ग्राम्य विकास उत्तर प्रदेश, मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास समेत आयुक्त ग्राम्य विकास को शिकायती पत्र बीते 25 सितम्बर को भेजा है।

जिला विकास अधिकारी उपयुक्त ऑडिट उमेशमणि पीडीएस अधिकारी जो नियमतः इस पद पर नही रह सकते, अपर निदेशक राजवर्धन जो सेवा निवृत्त के बाद बसपा के शासन काल मे अपर निदेशक शासन ऑडिट सेटिंग के बूते बने तब से सरकारे आती जाती रही।

लेकिन सत्ता में सेटिंग बरकरार रही जिसके बूते सपा और उसके बाद भाजपा की सरकार बने हुए भी डेढ़ साल से अधिक हो गया लेकिन पद बरकार है जो इनके प्रभुत्व और सत्ता में पकड़ को दर्शाता।

जबकि इनकी उम्र उनहत्तर वर्ष हो गई है। एक बार फिर इन्हें उपकृत करने के लिए अपर निदेशक के पद का विज्ञापन जारी हुआ तो उसमें शर्ते ऐसी रक्खी गई कि जिसे सिर्फ राजवर्धन ही पूरी कर सकते हो।

पहले तो अपर एज लिमिट खत्म की गई और उसके बाद सोशल के क्षेत्र में तीन वर्ष के अनुभव को वरियत की शर्त लगाई गई जो इनके राजवर्धन के सिवा कोई और पूरी नही कर सकता। इसके पूर्व भी शिकायत करता ने लोकयुक्त के यहां भी सोशल ऑडिट के भ्रष्टाचार की शिकायत कर चुका है। हालांकि इस मामले की जांच कब होगी ये तो समय ही बताएगा।

About publisher

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *