Thursday , September 24 2020
Breaking News

जिले में प्राथमिक विद्यालय का बुरा हाल, प्रशासन ने मूंदी आँखें

संदीप श्रीवास्तव

आजमगढ़। स्वच्छ भारत मिशन के तहत केन्द्र और प्रदेश सरकार करोड़ों रूपये खर्च कर शहर को स्वच्छ बनाने में भले ही जुटी हो लेकिन आजमगढ़ जिले में अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही से योजना दम तोड़ती नजर आ रही है।

आजमगढ़ जिले के रानी की सराय ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय मजगांवा जहां छोटे-छोटे बच्चे पढ़ने के लिए आते है। लेकिन प्राथमिक विद्यालय को जगह-जगह गढढे, झाड़ ने घेर लिया है। पूरे परिसर में गंदा पानी भी लगा है।

विद्यालय में पढ़ने के लिए बच्चों की जगह बकरियों ने ले लिया है। विद्यालय में आज तक न तो दीवार बन सकी है और न ही शौचालय। बच्चें इसी झांड और गंदे पानी से होकर गुजर रहे है। लेकिन गांव में लगे सफाईकर्मी ग्राम प्रधान को सुविधा शुल्क देकर मौज उड़ा रहे है।

यही नहीं गांवों में इससे बद्दत हालत है। इसके लिए कई बार ग्रामीणों ने भी आवाज उठाई थी लेकिन अधिकारियों भी कुभंकर्णी निद्रा में सोये हुए है। गांव के लोगों का कहना है कि ग्राम प्रधान सुनता नही लेकिन कम से कम विद्यालय के अधिकारियों को तो इस पर ध्यान देना चाहिए।

बीएसए का कहना है कि इसकी जानकारी उनको भी मिली है। वे जल्द ही स्कूल का विजिट करके वहां की समस्याओं का समाधान करेगें। विद्यालय में गंदगी के लिए ग्राम प्रधान भी जिम्मेदार है। इसके लिए वह सम्बन्धित विभाग को अवगत करायेगें।

About publisher

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *