प्रयागराज में विदेशियों सैलानियों की अनोखी दिवाली

रिपोर्ट—सैयद रज़ा
प्रयागराज। पूरी देश में दिवाली की धूम है। ऐसे में संगम नगरी प्रयागराज में भी दिवाली का अनोखा रंग देखने को मिला है। आज हम दिवाली से जुडी प्रयागराज से आपको ख़ास खबर बता रहे है। एक ऐसी खबर जहा दिवाली के महत्त्व को सात समंदर दूर से आये सैकड़ो विदेशी पर्यटक समझ रहे है। संगम तट के किनारे बसे क्रिया योग आश्रम में भारी मात्रा में विदेशी श्रद्धालुओं ने दिवाली को इको फ्रेंडली तौर पर मनाया।

प्रयागराज में भी दिवाली का अनोखा रंग देखने को मिला

अफ्रीका, अमेरिका, कनाडा, ब्राज़ील, ऑस्ट्रेलिया से आये विदेशी सैलानियों ने सबसे पहले रंगोली बनाई और दिया जलाया। रंगोली इतनी खूबसूरत बनाई कि कोई कह ही नहीं सकता था कि ये रंगोली कोई विदेशी मूल के लोगों ने बनायी होगी। सैलानियों ने इंसान रूपी रंगोली बनाई और उसके अंदर 7 दिए जलाए गए, ये सात दिए इंसान के अंदर की ऊर्जा को जगाने का काम करते हैं साथ ही अंदर की बुराई को भी खत्म करने का काम करता है।

मप्र : कांग्रेस के विज्ञापन पर भाजपा की आपत्ति खारिज

प्रयागराज में भी दिवाली का अनोखा रंग देखने को मिला

दिया जलाने के बाद सैलानियों ने महाराज सत्यम का ज्ञान प्राप्त किया उसके बाद पटाखों की बजाए गुब्बारे फोड़े। गुब्बारे फोड़ने का मकसद सिर्फ इतना ही था कि इन दिनों वायु प्रदूषण की चपेट में पूरा उत्तर भारत है और पटाखे वातावरण को प्रदूषित करते हैं व उनकी तेज आवाज से ध्वनि प्रदूषण होता है और कई तरह की बीमारियां भी पैदा होती हैं।

इस योजना से नगर पालिका को मिलेगा बिजली के बिल से छुटकारा

ऐसे में जब आवाज का मजा लेना है तो गुब्बारों को फोड़कर कर क्यों न ले। खास बात ये भी रही की दीवाली मनाने के बाद सभी सैलानियों ने योगा भी किया। योग के महत्व को समझा। ये सभी सैलानी देश के सबसे बड़े धार्मिक मेले कुंम्भ मेले में शिरकत करने के लिए आये हुए है। प्रयागराज के क्रियायोग आश्रम में 1992 से योग की शिक्षा लेने के लिए सैकड़ो की तादाद में हर साल विदेशी यहां आते है।

=>
LIVE TV