मंगलवार , जून 19 2018

एसएसपी की जांच में हुआ खुलासा, सैंकड़ों पुलिसकर्मी बिना ड्यूटी के ले रहे वेतन

रिपोर्ट- सईद राजा

इलाहाबाद। इलाहाबाद में सैंकड़ो पुलिसकर्मी लापता हैं। अचरज की बात यह है कि उनकी तनख्वाह तो बन रही है लेकिन तैनाती कहां है, वह क्या-क्या काम कर रहे हैं, यह किसी को नहीं पता। सालों से इन पुलिसकर्मियों ने अपनी आमदनी सत्यापित नहीं कराई है। रिकार्ड न मिलने पर महकमे में खलबली है। इसे पुलिस महकमे में बड़ा गड़बड़झाला माना जा रहा है।

पुलिस टीम

इसका खुलासा तब हुआ जब ज़िले के एसएसपी नितिन तिवारी ने ट्रेजरी और जिले में तैनात पुलिसकर्मियों की लिस्ट का मिलान किया तो सैंकड़ो पुलिसकर्मियों का फर्क पकड़ में आया। बिना ड्यूटी, तनख्वाह लेने वाले इन पुलिसकर्मियों की जांच शुरू हो गई है। एसएसपी ने सभी पुलिसकर्मियों की तनख्वाह रोकने का निर्देश दिया है।

दरअसल अभी तक जिले की पुलिस का ज्यादातर वर्क पेपर पर चल रहा था। एसएसपी ने जिले का पूरा सिस्टम ऑनलाइन करा दिया है। ऐसा साफ्टवेयर लांच किया गया है जिसमें पुलिसकर्मी का पूरा रिकार्ड, तैनाती दर्ज हो रही है। डाटा फीड करने के दौरान यह बात सामने आई। इसके बाद एसएसपी ने दोबारा सभी थानों, आफिसों, सेल, पुलिस लाइन और अफसरों के यहां तैनात पुलिसकर्मियों की सूची मंगाई।

अफसरों से सूची का मिलान ट्रेजरी की सूची से करवाया गया। ट्रेजरी की सूची से तनख्वाह लेने वाले सैंकड़ों पुलिसकर्मी की तैनाती कहीं भी नजर नहीं आई। संबंधित पुलिसकर्मी हैं भी अथवा नहीं, नौकरी छोड़ गए हैं या कर रहे हैं, इसकी जानकारी किसी को नहीं हैं। माना जा रहा है कि पुलिसकर्मियों की कमी झेल रहे महकमे को इन लापता पुलिसकर्मियों के सामने आने पर बड़ी मदद मिलेगी।

यह भी पढ़े: विश्व पर्यावरण दिवस की थीम लगाएगी प्लास्टिक प्रदूषण पर रोक

आकड़ा सैकड़ो का है, यानी हर थाने में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ जाएगी। इस मामले पर एडीजी एस. साबंत ने बताया कि एसएसपी नितिन तिवारी ज़िले की पुलिस की एक सूची तैयार कर रहे है और इसी के दौरान पुलिस विभाग की सूची और ट्रेजरी की सूची में उन्होंने फर्क  पाया है । सेकड़ो पुलिसकर्मी जो तनख्वाह ले रहे वह कहां पोस्ट हैं, किस काम में लगे हैं, यह किसी को नहीं पता। इसकी जांच आईजी इलाहाबाद  से कराई जा रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

=>
LIVE TV