तेजी के साथ उछला शेयर बाजार : साप्ताहिक समीक्षा

मुंबई बीते सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों में मामूली तेजी दर्ज की गई, जिसमें वैश्विक बाजारों की मजबूती का प्रमुख योगदान रहा। हालांकि सप्ताह की शुरुआत में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 1.8 अरब डॉलर (11,300 करोड़ रुपये) के घोटाले के भंडाफोड़ के बाद शेयर बाजारों में गिरावट दर्ज की गई थी। इसके बाद रोटोमैक कंपनी द्वारा किए गए ऋण घोटाले के कारण भी शेयर बाजार प्रभावित हुआ। बीते सप्ताह पांच कारोबारी सत्रों में से तीन में गिरावट दर्ज की गई और साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 131.39 अंकों या 0.38 फीसदी की तेजी के साथ 34,142.15 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 38.75 अंकों या 0.37 फीसदी की तेजी के साथ 10,491.05 पर बंद हुआ। बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 0.24 फीसदी तथा स्मॉलकैप सूचकांक में 0.22 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

शेयर बाजारों में मामूली तेजी

सोमवार को शेयर बाजार की सुस्त शुरुआत हुई और पीएनबी घोटाले के खुलासे के कारण सेंसेक्स 236.10 अंकों या 0.69 फीसदी की गिरावट के साथ 33,774.66 पर बंद हुआ। मंगलवार को वैश्विक बाजारों में कमजोरी के कारण सेंसेक्स 71.07 अंको या 0.21 फीसदी की गिरावट के साथ 33,703.59 पर बंद हुआ।

बुधवार को लगातार तीन कारोबारी सत्रों में गिरावट के बाद सेंसेक्स में तेजी लौटी और यह 141.27 अंकों या 0.42 फीसदी की तेजी के साथ 33,844.86 पर बंद हुआ। गुरुवार को बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर रहा और सेंसेक्स 25.36 अंकों या 0.07 फीसदी की गिरावट के साथ 33,819.50 पर बंद हुआ। शुक्रवार को वैश्विक शेयर बाजारों में आई मजबूती के कारण सेंसेक्स 322.65 अंकों या 0.95 फीसदी की तेजी के साथ 34,142.15 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में 16 में तेजी और बाकी में गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे – हीरो मोटोकॉर्प (0.16 फीसदी), विप्रो (0.89 फीसदी), टीसीएस (4.76 फीसदी), इंफोसिस (2.74 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (0.09 फीसदी), यस बैंक (3.75 फीसदी), कोटक महिंद्रा बैंक (2.88 फीसदी), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (1.6 फीसदी), रिलायंस इंडस्ट्रीज (1.33 फीसदी), कोल इंडिया (2.46 फीसदी), ओएनजीसी (1.82 फीसदी) और भारती एयरटेल (1.43 फीसदी)।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – एलएंडटी (1.93 फीसदी), टाटा मोटर्स (2.73 फीसदी), मारुति सुजुकी (1.52 फीसदी), बजाज ऑटो (3.7 फीसदी), महिंद्रा एंड महिंद्रा (3.29 फीसदी), सन फार्मास्यूटिकल (0.87 फीसदी), डॉ. रेड्ड़ी (1.97 फीसदी), एक्सिस बैंक (0.22 फीसदी), एचडीएफसी (0.21 फीसदी), एशियन पेंट्स (3.65 फीसदी), हिन्दुस्तान यूनीलीवर (2.18 फीसदी), टाटा स्टील (1.53 फीसदी) और पॉवरग्रिड कॉरपोरेशन (1.23 फीसदी)।

यह भी पढ़ें: अब किफायती दाम में भरे उड़ान, 700 रूपए तक मिलेगी छूट

इस दौरान, मौद्रिक नीति समिति की 6-7 फरवरी को हुई बैठक के मिनट्स 21 फरवरी को जारी किए गए। बैठक में दिसंबर में मुद्रास्फीति में आई कमी पर पर चर्चा की गई हालांकि इस दौरान मौसमी सब्जियों के दामों में सामान्य से कम गिरावट दर्ज की गई थी। जनवरी में घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल के दाम में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम में वृद्धि के कारण तेजी दर्ज की गई। इन सब कारकों को ध्यान में रखकर अब चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में मुद्रास्फीति की दर 5.1 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है। पिछली मौद्रिक समीक्षा में भारतीय रिजर्व ने प्रमुख ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया और रेपो रेट को 6 फीसदी पर बरकरार रखा।

वैश्विक आंकड़ों में, आईएचएस मार्किट के फ्लैश पीएमआई के मुताबिक, अमेरिका के विनिर्माण क्षेत्र में फरवरी में साढ़े तीन साल बाद तेजी दर्ज की गई है और सेवा आधारित कंपनियों की वृद्धि दर पिछले छह महीने के उच्च स्तर पर है। फरवरी में अमेरिका का विनिर्माण सूचकांक जनवरी के 55.5 से बढ़कर 55.9 हो गया। जबकि सेवा क्षेत्र का सूचकांक फरवरी में 55.9 पर रहा, जोकि जनवरी में 53.3 पर था।

इस सूचकांक में 50 से कम का अंक मंदी का तथा 50 से ऊपर का अंक तेजी का संकेत है।

=>
LIVE TV