बारात जाने से पहले दूल्हा और बाराती यह कहानी जरूर पढ़ ले, वरना बहुत पछताएंगे

रिपोर्ट- अहमद हसन

जौनपुर। शादी के बाद कोहबर में रस्म अदायगी के समय कन्या पक्ष द्वारा दुल्हे को नोट गिनने के लिए दिया गया। दूल्हा रूपया नही गिन पाया तो दुल्हन ने उस पर अपनढ़ और मंदबुध्दि होने का आरोप मढ़कर ससुराल जाने से इंकार कर दिया। उधर यह बात जब घर के बाहर पहुंची तो गुस्साएं घरातियों ने दूल्हा समेत सभी बारातियों को बंधक बना लिया। पूरी रात पंचायत चली लेकिन नतीजा सिफर निकला। मामला पुलिस तक पहुंचा तो पुलिस ने गांव में पहुंचकर बंधक बने बारातियों को मुक्त कराकर दोनो पक्षो को थाने पर बुलाकर मामले को रफादफा करा दिया।

पैसे नहीं गिन पाया दुल्हा

गुरूवार की रात जौनपुर जिले के सरायखाजा थाना क्षेत्र के हमजापुर गांव के निवासी लालबहादुर यादव के पुत्र अनिल यादव की बारात लाइनबाजार थाना क्षेत्र के परानापट्टी गांव के निवासी जमुना प्रसाद यादव के घर पर आयी थी। गाजेबाजे के साथ द्वारचार हुआ, जायमाल का कार्यक्रम पूरा होने के बाद वैदिक मंन्त्रोचारण के बीच दूल्हा-दुल्हन ने सात फेरे लेकर सात जन्मो तक साथ रहने की कसमें खाई।

लेकिन शादी में टवीस्ट तब आया जब के दूल्हा-दुल्हन कोहबर में रस्म अदा करने पहुंचे। इस दरमियान वर पक्ष की महिलाओं द्वारा दुल्हे को कुछ रूपये देकर गिनने को कहा गया। दुल्हा रूपयो को गिन नही पाया। इतने में दुल्हन समेत मौके पर मौजूद अन्य महिलाएं उसे अनपढ़ और मंदबुध्दि बताने लगी। जिसके कारण दुल्हन उसके साथ ससुराल जाने से साफ इंकार कर दिया।

यह भी पढ़े: योगी की मंत्री ने ममता को बताई उनकी औकात, महबूबा को कहा असफल

असल हंगामा तो बात घर के बाहर निकलने के बाद हुआ। मामला जानने के बाद घर के सदस्यों ने दूल्हा समेत सभी बारातियों को बंधक बनाकर दहेज और शादी खर्च हुए रूपये मांग करने लगे। पूरी रात दोनो पक्षो में पंचायत हुई लेकिन कोई हल नही निकल पाया। दोपहर में इसकी सूचना थाने पहुंची तो पुलिस मौके पर पहुंचकर बारातियों को मुक्त कराने के बाद दोनो पक्षो को थाने लाकर सुलह समझौता कराकर 23 हजार रूपये के गहने और 13 हजार रूपये नगद दुल्हन पक्ष को दिला दिया।

=>
LIVE TV