Monday , May 21 2018

काम के प्रति ईमानदारी की वजह से ऐश्वर्या बन गईं नंबर 1, ऐसे करती थीं सेलेक्शन

मुंबई:  अभिनेत्री व पूर्व विश्व सुंदरी ऐश्वर्या राय बच्चन का मानना है कि करियर संबंधी काम के चयन के मामले में वह स्कूली लड़की की तरह रही हैं और उन्हें लगता है कि उनके अंदर और ज्यादा परियोजनाएं करने का उत्साह होना चाहिए।

ऐश्वर्या राय बच्चन

ऐश्वर्या ने कान्स से वीडियो कांफ्रेंस के जरिए मीडिया के एक समूह को बताया, “मुझे लगता है कि काम के चयन के मामले में मैं काफी हद तक स्कूली लड़की की तरह थी..मैं तय कार्यक्रम के हिसाब से काम करने में अच्छी थी और इसके चलते मुझे कुछ बेहतरीन फिल्में और मौके मिले..क्योंकि मैं अपने तय कार्यक्रम व योजना के प्रति ईमानदार थी। अब जब मैं पीछे मुड़कर सोचती हूं तो मुझे लगता है कि मेरे अंदर और ज्यादा फिल्में करने की चाहत होनी चाहिए थी और इसके हिसाब से योजनाएं बनानी थी, क्योंकि मैंने कई सहयोगियों को सालों से काम करते देखा है।”

यह भी पढ़ेंः जागरूकता फैलाएगा माधुरी दीक्षित का ये गीत, आज होगा लॉन्च

अभिनेत्री को हालांकि, इसका कोई मलाल नहीं है। उन्होंने कहा, “दुनिया की आबादी देखिए, बताने के लिए कई कहानियां हैं। करने के लिए पर्याप्त फिल्में और काम हैं।”

मणिरत्नम की फिल्म ‘इरुवर’ से अभिनय क्षेत्र में कदम रखने वाली ऐश्वर्या ने भारत के कई जाने-माने फिल्मकारों जैसे संजय लीला भंसाली (हम दिल दे चुके सनम, देवदास और गुजारिश), आशुतोष गोवारिकर (जोधा अकबर), रितुपर्णो घोष (चोखेर बाली और रेनकोट) के साथ काम किया है।

बेटी आराध्या के जन्म के पांच साल बाद 2015 में उन्होंने फिल्म ‘जज्बा’ से फिर वापसी की।

=>
LIVE TV