Saturday , August 19 2017

इशारों-इशारों में बहुत कुछ कह गए सतपाल महाराज

सतपाल महाराजहरिद्वार : धर्मनगरी में बीते दिनों जलभराव को लेकर कैबिनेट मंत्रियों के समर्थकों के बीच हुए संघर्ष ने सियासी गलियारों में हलचल मचा दी। हालांकि हाईकमान का चाबुक पड़ते ही खुले तौर पर दोनों काबीना मंत्री टीका-टिप्पणी करने से बचते रहे, लेकिन भाजपा जिला कार्यसमिति की बैठक में प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज इशारों-इशारों में बहुत कुछ कह गए। काबीना मंत्री मदन कौशिक का नाम लिए बगैर उन्होंने जनहित के मुद्दों पर न केवल उन्हें घेरा, बल्कि जलभराव की समस्या से शहरियों को स्थायी निजात दिलाने को पर्यटन से मिलने वाली धनराशि से इस समस्या का निराकरण कराने की घोषणा कर आईना दिखाने की भी कोशिश की।

भारतीय नोटों पर गांधी जी की तस्वीर की ये है इनसाइड स्टोरी, इस फोटो से लिया गया उनका चेहरा

रानीपुर विधानसभा क्षेत्र के टिहरी विस्थापित कॉलोनी में रविवार को भाजपा जिला कार्यसमिति की बैठक थी। जिसमें प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज भी पहुंचे। सतपाल महाराज के चेहरे पर जलभराव से संबंधित विवाद की झलक दिखी, जो बाद में उनके शब्दों से भी सबके सामने आ गई। हालांकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन मन की भड़ास निकाल ली। यहां तक कह डाला कि चुनाव जीतने के बाद कइयों को अहंकार हो जाता है, हम और आगे कैसे बढ़ें, इस पर ध्यान होना चाहिए। आज धर्मनगरी के वाशिंदे जलभराव जैसी समस्या से जूझ रहे हैं। इससे स्थायी निजात दिलाने को गंभीरता से सोचने की जरूरत है।

प्रभारी मंत्री ने तो यहां तक कह डाला कि पर्यटन विभाग से मिलने वाली धनराशि से जलभराव की समस्या से निजात दिलाने में सहयोग करेंगे। उनके इस वक्तव्य से इशारा कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक की ओर ही था। हालांकि इस दौरान मदन कौशिक कार्यक्रम स्थल पर नहीं पहुंचे थे।

पार्किंग को लेकर भी उन्होंने इशारों में ही बहुत कुछ कह दिया। कहा पार्किंग मामले में उनकी दखल से सरकार को डेढ़ करोड़ की बजाय तीन करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ। इससे साफ है कि कुछ लोग केवल अपना हित ही साधना चाहते हैं।

=>
=>
LIVE TV