Monday , October 23 2017

शिया मौलवी के बयान ने जीता BJP का दिल, हर्ष वर्धन बोले- भगवान राम भारत की आत्मा

शिया मौलवीनई दिल्ली। शिया मौलवी कल्बे सादिक ने रविवार को कहा कि बाबरी मस्जिद पर अगर फैसला मुस्लिमों के पक्ष में आए तो भी जमीन हिन्दुओं को दे देनी चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि अगर फैसला मुस्लिमों के हक में नहीं आया तो उन्हें शांति से उसे मंजूर कर लेना चाहिए। बता दें कि शिया वक्फ बोर्ड ने 8 अगस्त सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि अयोध्या में मस्जिद विवादित जगह से कुछ दूरी पर मुस्लिम बहुल इलाके में बनाई जा सकती है। बोर्ड अयोध्या मामले में रिस्पॉन्डेंट (प्रतिवादी) नंबर 24 है। हालांकि, उसने इलाहाबाद हाईकोर्ट की सुनवाई में हिस्सा नहीं लिया था।

कल्बे सादिक के बयान पर केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि मौलाना साहब ने हमारा दिल जीत लिया है। भगवान राम न तो हिंदुओं के हैं, न मुस्लिमों के, भगवान राम भारत की आत्मा हैं। शिया वक्फ बोर्ड ने पहली बार सुप्रीम कोर्ट में ही एफिडेविट दायर करके ये कहा है कि अयोध्या में विवादित जगह उसकी प्रॉपर्टी है और वहां राम मंदिर बनाया जाना चाहिए। बता दें कि 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित जमीन को राम जन्मभूमि न्यास, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के बीच 3 हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था। इसे दी गई चुनौती पर सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय बेंच 11 अगस्त से सुनवाई शुरू कर चुकी है।

यह भी पढ़ें: 15 अगस्त के दिन मदरसों को झंडा फहराना जरुरी, आम स्कूलों को मिली छूट

अयोध्या विवाद में 8 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी। इस दौरान शिया सेंट्रल बोर्ड ऑफ उत्तर प्रदेश ने अपने एफिडेविट में कहा था- बाबरी मस्जिद का इलाका हमारी प्रॉपर्टी है। शिया बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट को विवाद के हल के लिए एक फॉर्मूला भी सुझाया। बोर्ड ने कहा कि बाबरी मस्जिद विवादित जगह से उचित दूरी पर मुस्लिम बहुल इलाके में बनाई जा सकती है। बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट से अपील में कहा कि इस बड़े विवाद के हल के लिए वो एक कमेटी बनाना चाहता है और इसके लिए उसे वक्त दिया जाए।

 

=>
LIVE TV