Saturday , June 24 2017

एक किक ने बदली अरशद की जिंदगी, बन गए पल भर में लखपति

लखनऊ के अरशद खान की किस्मतलखनऊ: दिल्ली के सीरी फोर्ट मैदान पर फुटबाल की 61 गज की लगाई गई किक ने एक सेकेंड में लखनऊ के अरशद खान की किस्मत बदल दी। ‘मिलियन डालर आर्म’ की नार्थ जोन प्रतियोगिता को जीतने के बाद अब अरशद लखपति तो बन ही गए हैं और अमेरिकी फुटबाल (एनएफएल) में किस्मत चमकाने का मौका मिलेगा। अब वह फरवरी में होने वाली नेशनल फाइनल में हिस्सा लेंगे।

अरशद शुक्रवार सुबह राजधानी पहुंचे।अरशद की इस सफलता पर उदयगंज में रह रहा उनका परिवार खूब गदगद है। पिता रज्जाक खान इस समय चेन्नई में हैं। मां शमीम खान को सुबह से ही बधाई देने वालों का तांता लगा है। अमेरिकी फुटबाल यानी रग्बी में हमेशा से ही प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की जरूरत रही है।

लखनऊ के अरशद खान की किस्मत बदलने से पूरा परिवार हुवा खुश

फुटबाल में भारतीय प्रतिभाओं को देखते हुए स्पोर्ट्स मंत्र ने ‘मिलियन डालर किक’ का आयोजन किया। इसमें सौ से ज्यादा खिलाड़ी नॉर्थ जोन फाइनल में पहुंचे। इसमें लखनऊ के अरशद ने सबसे लम्बी किक लगाकर खिताब जीत लिया। उन्हें 15 हजार डालर (करीब दस लाख रुपए) इनाम के तौर पर मिले।

अरशद लखनऊ मांटेसरी स्कूल सदर की देन हैं। वह मौजूदा समय लखनऊ विश्वविद्यालय से बीए की पढ़ाई कर रहे हैं। चौक स्पोर्टिंग के लिए वह बतौर गोलकीपर फुटबाल खेलते हैं। वह राजधानी के उम्दा गोलकीपरों में एक हैं। अरशद ने बताया कि यह उनके जीवन का सबसे बड़ा खिताब है।

अब उनका पूरा ध्यान नेशनल फाइनल पर है। वहां जीतने पर उन्हें अमेरिका में ट्रेनिंग करने का मौका मिलेगा। साथ ही एक मिलियन डालर का पुरस्कार भी मिलेगा।

इससे पहले रिंकू चमके थे: इससे पूर्व लखनऊ स्पोर्ट्स कॉलेज में ट्रेनिंग करने वाले भदोई के रिंकू सोनकर ने 2007 में ‘मिलियन डालर आर्म’ प्रतियोगिता का खिताब जीता था। वह रातोरात करोड़पति बन गए। मौजूदा समय वह अमेरिका में प्रोफेशनल बेसबाल खेलते हैं। वह प्रोफेशनल बेसबाल खेलने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं। उनकी सफलता पर फिल्म भी बन चुकी है। वह वहां के सेलेब्रेटी बन चुके हैं।

LIVE TV