राजमार्ग पर अन्ना मवेशियों के लिए तेज रफ्तार ट्रक बन रहे काल, पहले भी तिंदवारी में हो चुकी घटना

हाईवे पर अन्ना मवेशियों के लिए तेज रफ्तार ट्रक अब काल बन रहे हैं। बीते दिनों तिंदवारी के बाद शनिवारको बांदा-टांडा हाईवे पर दो जगह अलग अलग हादसों में ट्रकों की चपेट में आकर दस गोवंशों की मौत से ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया। नाराज ग्रामीणों ने हाईवे पर जाम लगाकर हंगामा किया, हालांकि पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर समझाया है। ग्रामीण काफी देर तक अफसरों को बुलाने की मांग पर अड़े रहे।

शुक्रवार की देर रात और शनिवार की भोर पहर ट्रकों ने दस गोवंशों को रौंद दिया। पहली घ्ज्ञटना बदौसा कस्बे में शुक्रवार देर रात हुई, यहां रात के अंधेरे में अन्ना गोवंशों का झुंड हाईवे पर निकल रहा था। इस बीच तेज रफ्तार ट्रक की चपेट में गोवंश आ गए। हादसे में पांच गोवंशों की मौत हो गई और कई घायल हाे गए। अभी रात भी नहीं बीती थी कि शनिवार भोर पहर तिंदवारी के मुंगूस गांव के पास एक और हादसा हो गया। यहां हाईवे किनारे करीब आधा दर्जन गोवंश बैठे थे, भोर पहर बांदा से फतेहपुर की जा रहा माैरंग लदा ट्रक गोवंशों को रौंदते हुए गुजर गया। चालक ने भागने का प्रयास किया तो अनियंत्रित ट्रक आगे जाकर पलट गया।

गाेवंशों की मौत की सूचना पर गांव में आक्रोश फैल गया और भीड़ हाईवे पर उतर आई। गुस्साए ग्रामीणों ने हाइवे पर जाम लगा दिया, जिससे दोनों तरफ वाहनों की लंबे कतारें लग गईं। थाना प्रभारी व खंड विकास अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों का समझाकर मृत गोवंशों को हाईवे से हटवाया। ग्रामीण अफसरों को बुलाने की मांग पर अड़े रहे। उनका कहना है गौशाला बनवाकर अन्न मवेशियों की व्यवस्था कराई जाए। दस दिन पहले भी तिंदवारी में ट्रक ने पांच गोवंशों को रौंदकर मौत के घाट उतार दिया था।

=>
LIVE TV