यूपी बोर्ड की परीक्षा में आज शामिल होंगे 58 लाख परीक्षार्थी

सात फरवरी को शुरू हुई यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षा के बाद अब पहली बार 12 फरवरी को बोर्ड की असली परीक्षा होगी। मंगलवार को हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट दोनों की अनिवार्य विषयों की परीक्षा होने के चलते बोर्ड परीक्षा में सबसे अधिक 58 लाख से अधिक परीक्षार्थी शामिल होंगे।
पहली पाली में हाईस्कूल हिंदी, प्रारंभिक हिंदी एवं इंटरमीडिएट बीमा सिद्घांत एवं व्यवहार, पंजाबी, बंगला, मराठी, असमी, उड़िया, कन्नड़, सिंधी, तमिल, तेलगु, मलयालम, नेपाली के 32.08 लाख परीक्षार्थी जबकि दूसरी पाली में इंटरमीडिएट के हिंदी एवं सामान्य हिंदी के 26.27 लाख परीक्षार्थी बोर्ड परीक्षा में शामिल होंगे। इस प्रकार दोनों पालियों में 58 लाख से अधिक विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा में शामिल होंगे।

यूपी बोर्ड

आज सभी 8354 केंद्रों पर परीक्षा
यूपी बोर्ड की ओर से परीक्षा शुरू होने केतीसरे दिन अनिवार्य विषय की परीक्षा होने पर अब सही मायने में पता चल सकेंगा कि कितने विद्यार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। बोर्ड परीक्षा में पहली पाली में 8354 केंद्रों पर हाईस्कूल हिंदी, प्रारंभिक हिंदी के 3195603 एवं इंटरमीडिएट के बीमा सिद्घांत एवं व्यवहार, पंजाबी, बंगला, मराठी, असमी, उड़िया, कन्नड़, सिंधी, तमिल, तेलगु, मलयालम, नेपाली के 12848 छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल होंगे जबकि दूसरी पाली में 8291 केंद्रों पर इंटरमीडिएट हिंदी, सामान्य हिंदी के 2611319 छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल होंगे। इस प्रकार दोनों पाली में मिलाकर 58.19 लाख विद्यार्थी परीक्षा देंगे।

रणबीर-आलिया की शादी का तो अभी नहीं पता, बेटी के नाम को लेकर किया है ये खुलासा

नकल रोकने केलिए 448 अति संवेदनशील केंद्र
बोर्ड सचिव ने बताया कि परीक्षा में नकल रोकने केलिए प्रदेश भर में कुल 1314 संवेदनशील एवं 448 अति संवेदनशील परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा सकुशल पूरी कराने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ सचल दस्ते भी नियुक्त किए गए हैं। सचिव ने बताया कि परीक्षा में प्रदेश भर में 2.50 लाख कक्ष निरीक्षक लगाए गए हैं।

वैलेटाइन वीक में रहें “रोमांस फ्रॉड” से सावधान, जानें क्या है ये बला…

सभी पृष्ठों पर लिखना होगा रोलनंबर, कोड
यूपी बोर्ड सचिव ने बताया कि पहली बार नकल रोकने केलिए परीक्षार्थियों को अब उत्तर पुस्तिका के हर पृष्ठ पर रोलनंबर और कॉपी के प्रथम पृष्ठ पर दर्ज कॉपी कोड को लिखना होगा। यूपी बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि बोर्ड की ओर से पहली बार परीक्षा में सभी 75 जिले में कोडिंग वाली कॉपी प्रयोग में लाई जा रही है। अब कॉपी के हर पृष्ठ पर रोलनंबर और कॉपी की कोडिंग लिखे जाने के आदेश के बाद कॉपी बदले जाने की घटना पर रोक लगेगी।

=>
LIVE TV