मौसम विभाग द्वारा कई स्थानों पर हल्की से भारी बारिश का लगाया गया पूर्वानुमान

देश में पिछले काफी समय से बारिश का दौर जारी है। अमूमन देख गया है कि अगस्त के महीने में ज्यादा बारिश नहीं होती है, लेकिन इस बार बारिशों के महीने से ज्यादा बारिश अगस्त में देखी गई। फिलहाल बारिशों का दौर कब तक चलेगा इसकी कोई जानकारी मौसम विभाग द्वारा नहीं दी गई है। लेकिन आज भी कहीं जगहों पर हल्की से भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। पहले ही देश में कोरोना महामारी से लोग परेशान हैं, ऊपर से बारिश और भूस्खलन से भी लोगों को हताहत होना पड़ रहा है। मौसम विभाग ने मौसम की ताजा जानकारी देते हुए बताया कि पंजाब, दिल्ली, हरियाणा व पश्चिम राजस्थान में अनेक स्थानों पर आज हल्की से मध्यम वर्षा होगी। जम्मू-कश्मीर व हिमाचल में अनेक स्थानों पर भी हल्की से मध्यम वर्षा होने का अनुमान है। वहीं, पहाड़ों पर भूस्खलन की भी संभावना है।

भारत के मौसम विभाग (IMD) के बुलेटिन के अनुसार, आज ओडिशा के कुछ इलाकों में भारी से बहुत बारिश होने का अनुमान लगाया है। साथ ही हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड. छत्तीसगढ़, झारखंड में भी भारी से बहुत भारी बारिश का अनुमान है। वहीं दिल्ली, जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश, पश्चिमी राजस्थान, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय में भारी बारिश हो सकती है। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार के कई इलाकों में आज आंधी तूफान का भी पूर्वानुमान लगाया गया है।

मौसम विभाग, देश के पूर्वी, उत्तरी और मध्य हिस्सों में अगले चार-पांच दिन में भारी बारिश होने का अनुमान पहले ही लगा चुका है। विभाग ने मंगलवार को बताया कि 26 अगस्त को ओडिशा और इसके अगले दिन छत्तीसगढ़ के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। बताया गया था कि उत्तरी बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास कम दबाव का क्षेत्र (चक्रवातीय परिसंचरण) बन रहा है, जो अगले चार-पांच दिन में पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा।

मौसम विज्ञान केंद्र भुवनेश्वर ने ओडिशा के मयूरभंज, क्योंझर, बालासोर, भद्रक, देवगढ़, सुंदरगढ़, संबलपुर, झारसुगुड़ा, बैरागढ़, बौध, सोनीपुर जिलों में बुधवार सुबह 10: 30 बजे से और दोपहर 13: 30 बजे के बीच अधिकांश स्थानों पर मध्यम बारिश होने की संभावना जताई। बता दें कि ओडिशा में भारी बारिश से हाल बेहाल है। लोगों को केले की चड्डी से बनी नावों का सहारा लेकर आना जाना करना पड़ रहा है। घरों में पानी भर गया है।

वहीं, बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र गहरा बन गया है। इसके प्रभाव से बुधवार से मध्यप्रदेश के विभिन्न स्थानों पर बरसात का दौर शुरू होने की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी ने बताया था कि बंगाल की खाड़ी में बना गहरा कम दाब का क्षेत्र उत्तर-पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ेगा। वर्तमान में राजस्थान में दक्षिण-पश्चिम राजस्थान पर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अतिरिक्त मानसून द्रोणिका (ट्रफ) राजस्थान पर बने सिस्टम से चुरू, नारनोल, गोरखपुर, पटना से होते हुए बंगाल की खाड़ी में बने गहरे कम दाब के क्षेत्र तक जा रही है। उत्तर-पूर्व अरब सागर में भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस वजह से मध्यप्रदेश में बड़े पैमाने पर नमी आने का सिलसिला जारी है।

मौसम विभाग ने बुधवार से पंजाब में बारिश की संभावना जताई है। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) के मौसम विभाग के अनुसार बुधवार से पंजाब के कई जिलों में बारिश हो सकती है। इसके बाद वीरवार और शुक्रवार को दो दिन तक कई हिस्सों में बारिश हो सकती है।

=>
LIVE TV