Tuesday , October 24 2017

अगर ट्राई लाई ये नियम तो जियो को छोड़ फिर रोएंगी सारी कंपनियां

मोबाइल कॉलनई दिल्ली। मोबाइल कॉल और इंटरनेट डेटा रिलायंस जियो के आने के बाद काफी सस्ते हो चुके हैं, लेकिन आने वाले दिनों में यह कीमतें जमींन पर आ जाएंगी। दरअसल, टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) इंटरकनेक्शन चार्ज में बड़ी कटौती कर सकता है।

इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज यानी आईयूसी में किसी भी तरह की कटौती के लिए जियो को छोड़कर कोई भी कंपनी तैयार नहीं हैं। जियो ने तो आईयूसी को खत्म कर दिए जाने की मांग कर रखी है।

मोबाइल कॉल में बड़ी राहत

ट्राई के अध्यक्ष आर एस शर्मा को एक लिखे एक पत्र में भारती इंटरप्राइजेज के चेयरमैन सुनील मित्तल ने लिखा, ‘आईयूसी की मौजूदा दर पहले ही लागत से काफी कम है।’ उन्होंने ट्राई को इसकी दर एक ‘निष्पक्ष और पारदर्शी तंत्र द्वारा तय’ करने की बात कही है।

कितना कम हो सकता है चार्ज?

मौजूदा समय में आईयूसी 14 पैसे प्रति मिनट है, जिसे भारती एयरटेल और आइडिया सेल्युलर टेलिकॉम कंपनियां बढ़ाकर 30 पैसे करना चाहती थीं। वहीं दूसरी ओर, वोडाफोन इस चार्ज को बढ़ाकर 34 पैसे करना चाहती थी।

इन सभी कंपनियों से उल्टा रिलायंस जियो चाहता था कि आईयूसी को खत्म कर दिया जाए। अब खबर है कि ट्राई की तरफ से इस चार्ज को 14 पैसे से घटाकर 10 पैसे तक किए जा सकता है।

क्या होता है आईयूसी?

आपको बता दें कि आईयूसी वह चार्ज होता है जो एक कंपनी से दूसरी कंपनी के मोबाइल पर कॉल करने के बदले उस दूसरी कंपनी को पहली कंपनी की तरफ से देना होता है।

ऐसे समझें-

अगर एयरटेल से वोडाफोन के ग्राहक को फोन किया जाता है तो वोडाफोन को एयरटेल की तरफ से प्रति मिनट 14 पैसे आईयूसी चुकाना होता है।

=>
LIVE TV