महिला सुरक्षा को लेकर CM योगी का बड़ा कदम, 1535 थानों में हुई महिला हेल्प डेस्क की शुरूआत

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ महीनों से महिलाओं और बच्चियों के साथ हो रहे अपराधो को देखते हुए सूबे के मुखिया के योगी आदित्यनाथ लगातार ठोस कमद उठा रहे है इसी कड़ी में उन्होंने महिलाओ की सुरक्षा को देखते हुए यूपी के सभी थानों में महिलाओ की परेशानियां सुनने के लिए महिला हेल्प डेक्स की शुरुवात करने के लिए कहा था जिसके सहत शुक्रवार को सीएम योगी ने प्रदेश में 1535 थानों में महिला हेल्प डेस्क की शुरूआत कर दी। इस सेवा के तहत महिलाओं की समस्या थानों में महिला अधिकारी ही सुनेगी। यह कार्यक्रम प्रदेश में चल रहे ‘मिशन शक्ति’ के तहत किया गया। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने कई जिलों में वार्ता कर उनसे जानकारियों को साझा किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर आयोजित कार्यक्रम में कहा जैसी दृष्टि होती है वैसी ही सृष्टि होती है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से जो लोग नारी गरिमा के खिलाफ खड़े हुए वह अब कटघरे में खड़े हुए है। महिलाओं के प्रति अपराध में कार्रवाई हो रही है। पिछले एक सप्ताह में बदलाव दिखने लगा है।

सीएम योगी ने कहा कि ‘मिशन शक्ति’ के माध्यम से न्यायालय के माध्यम से अपराधियों को सजा दिलाने का काम किया गया है। उन्होंने कहा कि लेखनी के माध्यम से भी समाज को एक नई दृष्टि दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि डिजिटल मीडिया में केवल महिलाओं के अपराध से सम्बन्धित खबरों को ही प्रमुखता दी जाती है। समाज को चाहिए कि महिलाओं के सम्मान के लिए सकारात्मक तौर पर आगे आए। सरकार उनके सहयोग के लिए तैयार है। महिलाओं के स्वावलम्बन और सम्मान के लिए जो भी आवष्यक होगा उसे किया जाएगा।


उन्होने कहा कि महिलाओ के सम्मान के लिए दूसरे विभाग क्या कर रहे हैं। उसकी समीक्षा करने भी जरूरत है। विभागों में आगे की क्या योजना है वह पहले से ही बना ले। विभागों के आपसी समन्वय से भी महिलाओं के सम्मान और उनके स्वावलम्बन को बढ़ाने में सफल हो सकते है।

उन्होंने कहा कि हर थाने में महिलाओं के लिए एक अलग से पारदर्षी कमरा हो जिसमें सीसीटीवी लगे हो पानी की व्यवस्था हो और वहां पर महिला कर्मियों की वहां उपस्थिति आवश्यक होनी चाहिए। योगी ने कहा कि हर थाने में महिलाओं के लिए हेल्पलाइन नम्बरों वीमेन पावर लाइन 1090, महिला हेल्पलाइन 181, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन1076 , पुलिस आपातकालीन 112 चाइल्ड लाइन 1090 स्वास्थ्य सेवा 102 तथा एम्बुलेंस सेवा 108 लिखा होना चाहिए। योगी ने कहा कि महिलाओं को बताना होगा कि यदि कोई झूठी सूचना दी जाती है तो उसके लिए सजा का भी प्रावधान होना चाहिए।

=>
LIVE TV