महाराष्ट्र में बेरोजगारी का आलम, राज्य सचिवालय में कैंटीन के वेटर बने ग्रेजुएट

देश के सबसे प्रगतिशील राज्यों में शुमार महाराष्ट्र में बेरोजगारी का आलम यह है कि स्नातक के अभ्यर्थी कैंटीन के वेटर बनना चाहते हैं, जबकि वेटर पद के लिए शैक्षणिक अर्हता चौथी पास है। हाल ही में मंत्रालय (राज्य सचिवालय) में कैंटीन वेटर के 13 पदों के लिए भर्ती निकाली गई थी, जिसमें 7000 लोगों ने आवेदन किया था उनमें से ज्यादातर स्नातक थे।

Waiters In State Secretariat

एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय कैंटीन में वेटर पदों के लिए हाल ही में 100 अंक की लिखित परीक्षा हुई थी। अधिकारी ने बताया कि परीक्षा की औपचारिकताएं 31 दिसंबर को पूरी हुई और फिलहाल, ज्वायनिंग प्रक्रिया चल रही है। चुने गए 13 उम्मीदवारों में आठ पुरुष और बाकी महिलाएं हैं। जिनमें 12 स्नातक और एक बारहवीं पास है।

उत्तरप्रदेश में फिर माफ हो सकता है किसानों का कर्ज, योगी सरकार का बड़ा दांव

मंत्रालय की कैंटीन में स्नातकों को वेटर के तौर पर नियुक्त किए जाने पर राज्य सरकार की आलोचना करते हुए विधानपरिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि मंत्रियों और सचिवों को शिक्षित व्यक्तियों की सेवाएं लेने पर शर्म आनी चाहिए। एनसीपी नेता ने कहा कि महज 13 पदों के लिए 7000 आवेदन देश और महाराष्ट्र में रोजगार की स्थिति का स्पष्ट उदाहरण है। यह बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है कि स्नातक इन पदों के लिए चुने गए, जबकि अर्हता चौथी पास की थी।

=>
LIVE TV