बहुजन समाज पार्टी के सांसद मलूक नागर पर आयकर विभाग ने कसा शिकंजा,कई जगहों पर छापामारी

कालाधन और आय से अधिक संपत्ति मामले में इनकम टैक्स विभाग की कई टीमें बुधवार सुबह से ही दिल्ली-एनसीआर समेत कई राज्यों में छापेमारी कर रही हैं।इनकम टैक्स विभाग ने बिजनौर से सांसद बसपा मलूक नागर और उनके भाई लखीराम नागर के नोएडा और हापुड़ स्थित आवास, संभावित ठिकानों, रिश्तेदारों, करीबियों के घर पर छापा मारा है।

सांसद मलूक नागर के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की जानकारी मिलने के बाद यह छापेमारी की गई है। सांसद के सेक्टर-55 और सेक्टर-44 स्थित आवास पर छापा मारा गया। छापेमारी की कार्रवाई सुबह तड़के शुरू की गई। आयकर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अभी कार्रवाई जारी है। बता दें कि अब से दस साल पहले भी मलूक नागर के घर पर आयकर विभाग ने छापा मारा था।

उत्तर प्रदेश की बिजनौर लोकसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी के सांसद मलूक नागर पर आयकर विभाग का शिकंजा कसता नजर आ रहा है। बिजनौर से बसपा सांसद मलूक नागर और उनके भाई लखीराम नागर के नोएडा और हापुड़ स्थित आवास और संभावित ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी जारी है। बताया जा रहा है कि बुधवार सुबह से ही मलूक नागर के रिश्तेदारों और करीबियों के घर भी  आयकर विभाग की छापेमारी चल रही है।

 बुधवार सुबह शुरू हुई छापेमारी में नोएडा पुलिस की 50 टीमें लगी हैं। इसके अलावा 50 अलग-अलग स्थानों पर भी छापेमारी चल रही है। बताया जा रहा है कि छापेमारी का दायरा बढ़ भी सकता है। वहीं, अब तक यह जानकारी भी नहीं मिल पाई है कि आयकर विभाग की ये छापेमारी किस सिलसिले में की जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसार बिजनौर से बसपा सांसद मलूक सिंह नागर के कुचेसर रोड चौपला स्थित दूध प्लांट और आवास पर आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की है। फिलहाल प्लांट और आवास को चारों तरफ से पुलिस ने घेर रखा है। दोनों स्थानों पर किसी को जाने नहीं दिया जा रहा है। छापेमारी की सूचना पर लोगाें की भीड़ एकत्र हो गई है। आयकर विभाग की टीम जांच संबंधी दस्तावेज जुटा रही है। बता दें कि सांसद मूलक सिंह नागर के बड़े भाई लक्खी राम नागर प्रदेश सरकार में पूर्व मंत्री रह चुके हैं।

मलूक नागर बहुजन समाज पार्टी की मुखिया और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के करीबी हैं। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने कई उम्मीदवारों को पछाड़ते हुए बिजनौर से बसपा का  टिकट हासिल किया था और इसके बाद उन्होंने जीत भी हासिल की थी। यह जीत इसलिए भी खास थी, क्योंकि मोदी लहर में बसपा और सपा गठबंधन कुछ खास नहीं कर पाया था।

=>
LIVE TV