न्यूजीलैंड हमले के बाद लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग के नियमों कोबना सकता हैं फेसबुक

नई दिल्ली : फेसबुक ने शुक्रवार को कहा हैं कि वह न्यूजीलैंड में मस्जिदों पर हुए हमले के प्रसारण के लिए उसकी लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग सेवा का इस्तेमाल किए जाने के मद्देनजर इस सेवा के नियमों को कड़ा बना रहा है। जहां एक श्वेतवादी हमलावर ने क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हमला किया था जिसमें 50 लोगों की मौत हो गई।

फेसबुक

 

बता दें की चीफ ऑपरेटिंग अधिकारी शेरिल सैंडबर्ग ने एक ऑनलाइन पोस्ट में कहा कि कई लोगों ने सही सवाल उठाया कि फेसबुक जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल हमले की भयानक वीडियो का प्रसार करने में कैसे किया गया हैं। जहां उनका कहना हैं की आतंकवादी हमले के मद्देनजर हम तीन कदम उठा रहे हैं। जहां फेसबुक लाइव इस्तेमाल करने के नियमों को कड़ा बना रहे हैं, हमारे प्लेटफॉर्म पर नफरत फैलाने से रोकने के लिए और कदम उठा रहे हैं तथा न्यूजीलैंड समुदाय का समर्थन कर रहे हैं।

देखा जाये तो सैंडबर्ग के अनुसार फेसबुक अपने लाइवस्ट्रीमिंग के मानदंडों का पूर्व में उल्लंघन कर चुके लोगों को इस सेवा के इस्तेमाल से रोकने पर विचार कर रहा है। सोशल नेटवर्क ऐसे सॉफ्टवेयर में भी निवेश कर रहा है जो हिंसक वीडियो या तस्वीरों के संपादित संस्करण को साझा करने या री-पोस्ट करने से रोकने के लिए तुरंत उनकी पहचान कर सकें।

गौरतलब है कि इसी महीने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हमला हुआ था जिसमें 49 लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले में 6 भारतीय लोगों की भी मौत हुई थी। इस हमले के दौरान बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी वहां मौजूद थे, हालांकि टीम के खिलाड़ी मस्जिद से सुरक्षित निकलने में सफल रहे।

=>
LIVE TV