शुरू हुआ तिब्बती समाज का नया साल, नैनीताल के इस मठ में मनाया पहला जश्न

सुनील बोरा

नैनीताल। तिब्बती समुदाय विश्वभर में अपने नये साल यानी लोसर का जश्न मना रहा है। नैनीताल में भी तिब्बती समुदाय ने सुख निवास स्थिति बौद्ध मठ में लोसर का जश्न मनाया। इस दौरान समुदाय के लोगों ने मठ में पूजा अर्चना की। तीन दिन तक चले लोसर के जश्न में लोगों ने एक दूसरे को नये वर्ष की शुभकामनाएं दी।

तिब्बती समाज

तिब्बती समुदाय ने पूजा अर्चना कर विश्व शांति और दलाई लामा की दीर्घायु की कामना की। लोसर के मौके पर तिब्बती समुदाय की महिलाओं और पुरूषों ने पारंपरिक परिधानों में मंगल गीत गाये।

नैनीताल में लोसर का जश्न तीन दिनों तक चला और आज मठ में अंतिम दिन पूजा अर्चना की गई।

बता दें कि आज ही के दिन तिब्बती समुदाय द्वारा रंग बिरंगे झंडे लगाए जाते हैं जो 5 रंग के होते है। हरा जो हरियाली का लाल अग्नी सफेद जो शांति का नीला जो जल का और पीला जमीन का प्रतीक होते हैं। इन झंडों में मंत्र लिखे होते हैं और माना जाता है कि हवा के बहाव से जितनी बार यह  झंडे हवा में लहराते हैं उतनी ही ज्यादा विश्व में शांति आएगी।

यह भी पढ़ें :-नैनीताल के इस युवक को गृहमंत्रालय ने दिया सम्मान, देश का नाम किया रोशन

लोसल को 3 दिन तक मनाया जाता है। पहले दिन तिब्बती समुदाय के लोग मठों में जाकर पूजा अर्चना करते हैं और इस पर्व को अपने परिवार वालों के साथ घर में बनाते हैं दूसरे दिन नाते रिश्तेदारों एवं पड़ोसियों के घर जाकर नए वर्ष की बधाई दी जाती है। वहीं तीसरे दिन गोमफा यानी मठो में आकर सभी तिब्बती समुदाय के लोग सामूहिक रुप से पूजा अर्चना करते हैं विश्व शांति की कामना करते है।

=>
LIVE TV