डॉक्टर्स की लापरवाही के चलते गर्भवती महिला की हुई मौत !

रिपोर्ट – रामचंद्र सैनी

फतेहपुर : केंद्र से लेकर प्रदेश सरकार सरकारी हॉस्पिटलों में गरीबो को बेहतर इलाज के लिए करोड़ों रुपये का बजट दे रही है,लेकिन धरती के भगवान कहे जाने वाले डाक्टर सुधरने का नाम तक नहीं ले रहे हैं |

ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के जिला महिला अस्पताल का है जहाँ डॉक्टरों की लापरवाही के चलते एक गर्भवती महिला ने तड़प-तड़प कर जान दे दी |

महिला की मौत के बाद परिजनों का रो-रो बुरा हाल रहा |  महिला हॉस्पिटल में रोते बिलखते परिजनों को देख एमएलए ने डॉक्टरों को फटकार लगाते हुए सीएम से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक शिकायत करने का परिजनों का आश्वासन दिया | एमएलए का गुस्सा देख हॉस्पिटल में हड़कंप मच गया |

फतेहपुर जिले के जिला महिला हॉस्पिटल में रोते बिलखते इन परिजनों को यह तक नहीं पता था की जिस हॉस्पिटल को मंदिर और डाक्टरो को भगवान मानकर गर्भवती बेटी को लेकर आये |

वही डाक्टर बेटी की मौत का कारण बन गए | बेटी की मौत के बाद परिजनों का रो-रो बुरा हाल था | मृतका के परिजनों को रोता बिलखता देख विधायक जी को गुस्सा आया और डाक्टरों को फटकार लगाते हुए खुद ही हॉस्पिटल के अंदर पहुँच रजिस्टरो की जाँच पड़ताल करने में लग गए |

 

माँ ने दो मासूम बेटियों सहित खुद को किया आग के हवाले, तीनों की हुई मौत !

 

वहीँ मृतका के परिजनों की मानें तो वह गर्भवती बेटी को लेकर हुसैनगंज पीएचसी में भर्ती कराया | जहाँ डॉक्टर उसे घंटो तड़पता देखते रहे लेकिन गर्भवती महिला का इलाज नहीं किया |

जब महिला की हालत बिगड़ी तो उसे आनन-फानन जिला महिला हॉस्पिटल के लिए भेज दिया | जहाँ महिला ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया |  वहीँ इस मामले में सीएमएस ने बताया की हुसैनगंज पीएचसी से गर्भवती महिला को रेफर किया गया था |

जो हॉस्पिटल ब्राडेड आई थी | वहीँ इस मामले में बीजेपी एमएलए करन सिंह पटेल से बात की गई तो उनका कहना था कि हॉस्पिटल में एक तीमारदार को देखने आये थे जहाँ पूरा हॉस्पिटल अँधेरे में पड़ा था|

जब इस बारे में सीएमएस से बात की तो जनरेटर चलवाने के लिए कहा तभी रोते बिलखते परिजनों को देखा तो वह महिला की इंट्री हॉस्पिटल में एक घंटे बाद हुई जिसकी जांच के आदेश दिए गए है |

जो भी इस महिला की मौत का जिम्मेदार होगा छोड़ा नहीं जायेगा  और इसकी शिकायत सीएम से लेकर स्वास्थ्य मंत्री से कर डॉक्टरों की कमी को जल्द दूर करने की बात कहने लगे |

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह उठता हैं की जिस हॉस्पिटल के लिए करोड़ों रुपये बजट देकर डॉक्टर्स को बेहतर इलाज करने की हिदायत दी जा रही हो उसी हॉस्पिटल में तड़प-तड़प कर महिला की जान जा रही है यह अपने आप में बड़ा सवाल है |

 

 

=>
LIVE TV