ट्रंप ने तैयार किया मसौदा, अब अमेरिका से हो कर रहेगा मुस्लिमों का सफाया

ट्रंपवाशिंगटन। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप प्रशासन कुछ मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर अस्थायी रूप से रोक लगाने की योजना बना रहा है। एक अमेरिकी इमीग्रेशन लॉयर्स के एसोसिएशन (एआईएलए) ने इस संबंध में एक मसौदा रिपोर्ट प्रसारित की जा रही है।

हालांकि व्हाइट हाउस ने लीक हुई इस मसौदा रिपोर्ट की प्रमाणिकता की कोई पुष्टि नही की है लेकिन कई अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट में यह चर्चा है कि इन देशों में मुख्य रूप से मुस्लिम बहुल देश शामिल हैं। हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके मंत्रिमंडल के कई सहयोगियों ने इस बात का खंडन किया था कि प्रस्तावित प्रतिबंध धर्म आधारित होगा।

अमेरिकन इमीग्रेशन लॉयर्स एसोसिएशन (एआईएलए) के लीक हुये मसौदा रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी सरकार कुछ देशों के नागरकों को वीजा जारी करने पर रोक लगाएगी। इसके साथ ही अमेरिकी सरकार शरणार्थियों के प्रवेश पर 120 दिनों के लिए रोक, सीरियाई शरणार्थियों के दस्तावेजों पर अनिश्चित काल के लिए रोक और वीजा साक्षात्कार छूट कार्यक्रम पर रोक लगाएगी।

इस मसौदा रिपोर्ट के मुताबिक, ‘किसी व्यक्ति का आतंकवादियों के साथ संबंधों का पता लगाने और उन्हें अमेरिका में प्रवेश करने से रोकने में वीजा जारी करने की प्रक्रिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।’ मसौदा रिपोर्ट में कहा गया है कि 9/11 हमले के बाद विदेशी मूल के सैकड़ों लोग आतंकवाद संबंधित अपराधों में दोषी पाये गये हैं। इन लोगों में शरणार्थी होने का दावा कर, विजिटर, छात्र और रोजगार वीजा प्राप्त कर अमेरिका में प्रेवश करने वाले विदेशी नागरिक शामिल हैं। साथ ही यह भी कहा गया है कि कुछ देशों में युद्ध, संघर्ष, आपदा और अशांति की वजह से हालात बिगड़ने से इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि आतंकवादी अमेरिका में प्रवेश करने के लिए कोई भी साधन का उपयोग कर सकते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया, ‘अमेरिका को वीजा जारी करने की प्रक्रिया के दौरान सतर्क रहना चाहिए ताकि इस बात को सुनिश्चित किया जा सके कि जिन लोगों को अमेरिका में प्रवेश करने की मंजूरी दी गई हो उनका इरादा अमेरिका को नुकसान पहुंचाने का नहीं हो और उनका आतंकवाद के साथ काई संबंध नहीं हो।’ इसमें कहा गया कि अमेरिका को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस देश में प्रवेश करने वाले लोगों का अमेरिका और इसके स्थापित सिद्धांतों के प्रति शत्रुतापूर्ण व्यवहार नहीं हो।

मसौदा रिपोर्ट में कहा गया, ‘हम ऐसे लोगों को हमारे देश में प्रवेश करने नहीं दे सकते और देना भी नहीं चाहिए जो अमेरिका के संविधान को नहीं मानते या जो हिंसक धार्मिक फरमानों को अमेरिकी कानून से ऊपर मानते हैं।’ हालांकि संयुक्त राष्ट्र जाने के लिए राजनयिक पासपोर्ट, नाटो वीजा और सी-2 वीजा के तहत यात्रा करने वाले विदेशी नागरिकों को प्रस्तावित प्रतिबंध से छूट दी जाएगी। मसौदा रिपोर्ट के अनुसार, प्रस्ताव में वीजा साक्षात्कार छूट कार्यक्रम पर तत्काल रोक लगाने और गैर-आप्रवासी वीजा की मांग करने वाले सभी लागों के साक्षात्कार लिये जाने को अनिवार्य बनाने की बात कही गई है।

LIVE TV