जिले में नाग पंचमी पर लोगों ने घरों में नाग देवता की विधि-विधान से की पूजा-अर्चना

जिले में नाग पंचमी पर लोगों ने घरों में नाग देवता की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की। घर-घर पहुंचे सपेरों ने नाग देवता के दर्शन कराए। दूध पिलाकर दक्षिणा दी गई।

सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर शनिवार को नाग पंचमी पर्व मनाया गया। घरों में ही लोगों ने मिट्टी व आटा के नाग-नागिन के जोड़े बनाकर उन्हें रंगों से सजाया। इसके बाद अक्षत, फूल व दीप जलाकर विधि-विधान से पूजा की। पूजन करने के बाद व्रत रखे लोगों ने फलाहार किया। कोरोना आपदा में दो दिन के लॉकडाउन के चलते रेलवे रोड स्थित पांडवेश्वरनाथ मंदिर व घुमना कोतवाली के पीछे स्थित कोतवालेश्वरनाथ मंदिर बंद रहे। इसके बावजूद भक्तों ने मंदिर गेट के बाहर फल-फूल चढ़ाकर पूजा की। मंदिर बंद होने से सपेरे घर-घर पहुंचे। लोगों ने कटोरी में नाग देवता को दूध पिला सपेरे को दक्षिणा दी।

=>
LIVE TV