चोरों ने चुराया 30 हजार लीटर पानी, वोदका में होता है इस्तेमाल

अभी तक आपने चोरों को गाड़ी, रुपये और जेवरात पर हाथ साफ करते हुए सुना होगा लेकिन कनाडा के न्‍यूफाउंडलैंड में चोरों ने एक कंपनी से 30 हजार लीटर पानी चुरा लिया. ये बात आपको भले ही मजाक लगे लेकिन आपको ये बात जानना बेदह जरूरी है कि जो पानी चुराया गया है, वह कोई साधारण पानी नहीं है.

चोरों ने जो 30 हजार लीटर पानी चुराया है, वह आइसबर्ग का है. शुद्धता की वजह से इस पानी का इस्‍तेमाल वोदका (शराब) और कॉस्‍मेटिक प्रोडक्‍ट बनाने के लिए होता है. कंपनी के मुताबिक इस पानी की कीमत करीब 8.5 लाख रुपये है.

जांच में जुटी पुलिस का कहना है कि चोरों ने जिस तरह से 30 हजार लीटर पानी चुराया है, उससे साफ पता चलता है कि यह चोरी किसी एक दिन की नहीं है. इस चोरी को कई दिनों में अंजाम दिया गया है. चोरों को पहले से पता था कि कंपनी में आइसबर्ग का पानी रखा जाता है. पुलिस के मुताबिक इस चोरी में किसी कंपनी के ही आदमी का हाथ हो सकता है क्‍योंकि पानी को देखकर अंदाजा नहीं लगाया जा सकता कि यह साधारण पानी है या फिर आइसबर्ग का पानी.

इस गैस एजेंसी ने 67 लाख आधार नंबर्स किए लीक, ग्राहकों को घाटा

कंपनी के सीईओ डेविड मासर्य ने बताया कि इस पानी को विशेष सुरक्षा में रखा जाता है. इस पानी के टैंक तक पहुंचने में कई लॉक को पासवर्ड से खोलना होता है. मायर्स ने बताया कि साल में एक बार समुद्र में तैर रहे आइसबर्ग को तोड़कर पानी निकाला जाता है. सर्दियों में आइसबर्ग पूरी तरह से ठोस हो जाते हैं और उनका टूटना बेहद मुश्किल होता है. ऐसे में इस पानी को निकालना काफी मुश्‍किल का काम होता है.

=>
LIVE TV