चाणक्य नीति

कठोर वाणी अग्निदाह से भी अधिक तीव्र दुःख पहुंचाती है।

चाणक्य

=>
LIVE TV