क्या होता है नागा साधुओं के मृत शरीर के साथ, रहस्य जानकर खौफ से सहम जायेंगे आप…

प्रयागराज में इस वक्त अर्धकुंभ के चलते यहां देश विदेश से लोगों की भीड़ एकत्रित हुई है।

15 जनवरी से 4 मार्च तक चलने वाले इस धार्मिक मेले में हजारों की तादात में नागा साधु भी एकत्रित हुए हैं।

ईश्वर की साधना में लीन इन नागा बाबाओं की जिंदगी काफी रहस्यमयी होती है जिसके बारे में जानने की हमेशा लोगों में उत्सुकता बनी रहती है।

अघोरी

नागा साधुओं का सांसारिक जीवन से कोई लेना-देना नहीं होता है,लेकिन एक गृहस्थ जीवन को बिताने में इंसान को जितनी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता उससे कहीं ज्यादा मुश्किल परिस्थितियों में से होकर नागा साधु अपना जीवन व्यतीत करते हैं।

नागा साधुओं का रहन-सहन, खान-पान सबकुछ बेहद अलग होता है। अपनी पूरी जिंदगी ये कठिन तप करने में निकाल देते हैं।

आज हम आपको इनके बारे में एक अहम बात बताने जा रहे हैं जिसके बारे में बहुत कम लोगों को ही पता है।

धरती पर इनको मानते हैं भगवान शिव का दूसरा रूप, भोलेनाथ स्वयं देते हैं दर्शन…

क्या आप जानते हैं कि शरीर का त्याग करने के बाद उनके साथ क्या किया जाता है यानि कि मृत्यु के पश्चात इनके पार्थिव शरीर का क्या होता है? आइए जानते हैं।

जैसा कि आप जानते हैं कि हिंदुओं में मौत के पश्चात मृत शरीर को जलाने की प्रथा का पालन किया जाता है।

ऐसी मान्यता है कि इंसान का शरीर पंचतत्वों से मिलकर बना है और शव को जलाने के साथ वह उन्हीं पांच तत्वों में विलीन हो जाता है हालांकि नागा साधुओं को जलाया नहीं जाता है बल्कि उन्हें भू-समाधि दी जाती है।

 

=>
LIVE TV