कोटद्वार के ट्रैचिंग ग्राउंड में कूड़े का ढेर बना लोगों की मुसीबत का सबब

रिपोर्ट – राकेश पंत 

उत्तराखंड : कोटद्वार के खोह नदी तट पर बने ट्रैचिंग ग्राउंड में फेंके गए कूड़े का निस्तारण न होने के कारण यह कूड़ा लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन रहा है| ट्रेचिंग ग्राउंड में जगह न होने के कारण अब नगर निगम उस कूड़े को सड़क के किनारे फेंक रहा है|

कोटद्वार के ट्रैचिंग ग्राउंड में कूड़े का ढेर बना लोगों की मुसीबत का सबब

इधर-उधर बिखरे इस कूड़े के कारण जहां आसपास दुर्गंध फैल रही है तो वही बीमारी फैलने का भी खतरा उत्पन्न होने लगा है| स्थायी ट्रैचिंग ग्राउंड से संबंधित फाइल वन महकमे और नगर निगम के मध्य फुटबॉल की तरह यहां-वहां लुढ़क रही है।

मसूरी में स्वच्छता में नंबर वन हिल स्टेशन बनाने की कवायद

कोटद्वार में स्थायी ट्रैचिंग ग्राउंड के लिए हल्दूखाता के समीप चयनित 0.98 हेक्टेयर वन भूमि से संबंधित फाइल पिछले लंबे समय से नगर निगम व वन महकमे के मध्य फुटबॉल की तरह इस टेबल से उस टेबल पर लुढ़क रही है। तर्क दिया जा रहा है कि शासन स्तर से ट्रैचिंग ग्राउंड के लिए भूमि हस्तांतरित की जाएगी।

सोचनीय विषय यह की नगर निगम के लिए वन भूमि हस्तांतरित करने में इतना लंबा समय क्यों लग रहा है  स्पष्ट है कि लोगों के स्वास्थ्य की चिता ना तो जनप्रतिनिधियों को है और ना शासन प्रशासन को है

Urban Update : मुंगेली जिले में बारिश बनी जी का जंजाल, पुलों के ऊपर से बह रहा पानी

वही कोटद्वार नगर निगम की मेयर हेमलता नेगी  का कहना है सड़क किनारे फेंके गए कूड़े को जेसीबी द्वारा हटाया जा रहा है  ट्रेचिंग ग्राउंड के लिए जमीन की तलाश की जा रही है

=>
LIVE TV