अब सुलझेगा राम जन्मभूमि विवाद, एक्शन में आ गया सुप्रीम कोर्ट

अयोध्या मामले में सुनवाई के लिए पांच जजों की संविधान पीठ का गठन कर दिया गया है। इस बेंच में सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े, जस्टिस एनवी रमाना, जस्टिस यूयू ललित और डीवाई चंद्रचूड़ को शामिल किया गया है जो मामले पर सुनवाई करेंगे। 10 जनवरी को साढ़े दस बजे अयोध्या मामले पर सुनवाई शुरू होगी।

बता दें कि शीर्ष अदालत ने पिछले साल 29 अक्टूबर को कहा था कि यह मामला जनवरी के प्रथम सप्ताह में उचित पीठ के समक्ष सूचीबद्ध होगा जो इसकी सुनवाई का कार्यक्रम निर्धारित करेगी। बाद में अखिल भारत हिन्दू महासभा ने एक अर्जी दायर कर सुनवाई की तारीख पहले करने का अनुरोध किया था परंतु न्यायालय ने ऐसा करने से इंकार कर दिया था।

न्यायालय ने कहा था कि 29 अक्टूबर को ही इस मामले की सुनवाई के बारे में आदेश पारित किया जा चुका है। हिन्दू महासभा इस मामले में मूल वादकारियों में से एक एम सिद्दीक के वारिसों द्वारा दायर अपील में एक प्रतिवादी है।

इससे पहले, 27 सितंबर, 2018 को तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने 2:1 के बहुमत से 1994 के एक फैसले में की गयी टिप्पणी पांच न्यायाधीशों की पीठ के पास नये सिरे से विचार के लिये भेजने से इंकार कर दिया था। इस फैसले में टिप्पणी की गयी थी कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं है।

लड़के के प्यार में लिंग परिवर्तित कर बना महिला, साथी ने शादी के बदले किया रेप

अयोध्या प्रकरण की सुनवाई के दौरान एक अपीलकर्ता के वकील ने 1994 के फैसले में की गयी इस टिप्पणी के मुद्दे को उठाया था।

=>
LIVE TV