अपने प्यार को पाने के लिए पाकिस्तान छोड़कर भारत आई ये लड़की, कहानी ने जीता लोगों का दिल

डेस्क: जब बात मोहब्बत की हो तो उसका रास्ता कोई सरहद कोई दीवार नहीं रोक सकती। आपने यह डायलॉग फिल्मों और किस्सों कहानियों में जरूर सुना होगा, लेकिन आज हम आपको ऐसी ही एक सच्ची कहानी से रूबरू कराएंगे।

यह कहानी है पाकिस्तान की रहने वाली एक लड़की की जिसे मुंबई के एक लड़के से प्यार हो जाता है। इसके बाद वह अपने प्यार को पाने के लिए जो सफर तय करती है, उसे जानकर आप भी ताज्जुब करेंगे।

पाकिस्तान की इस लड़की का नाम साराह हुसैन है। साराह की यह खूबसूरत लव स्टोरी शुरू होती है, वहां से जब वे शादी के लिए भारत आती है। वे पाकिस्तान से भारत में रहने वाले अपने रिश्तेदार के यहां आती हैं। यहां उनकी मुलाकात मुस्तफा दाऊद से होती है और दोनों में प्यार हो जाता है। लेकिन इनके प्यार का असल इम्तिहान तो आगे शुरू होना था।

बता दें ‘Humans of Bombay’ नामक फेसबुक पेज पर साराह की लव स्टोरी को शेयर किया गया। इसमें बताया गया है कि कैसे कराची की एक लड़की को मुंबई के लड़के से प्यार होता है और कैसे वो अपना मुश्किलों भरा सफर तय करने के बाद भारत आती हैं। उनकी यह स्टोरी तमाम लोगों ने पसंद की है। तो जानना चाहेंगे साराह की मोहब्बत की ये दिलचस्प कहानी..? चलिए बताते हैं।

दरअसल, साराह जब इंडिया आती है तो उन्हें मुस्तफा दाऊद से मिलाया जाता है। धीर-धीरे दोनों में बातचीत शुरू हो जाती है। फिर कुछ मुलाकात और होती है और बात शादी तक पहुंचती है। साराह और मुस्तफा को लगता है कि दोनों एकदूजे के लिए ही बने हैं। साराह मुस्तफा दाऊद से शादी कर लेती है और मुंबई में आकर रहने लगती हैं।

शादी के बाद साराह और मुस्तफा की जिंदगी काफी उतार-चढ़ाव आते हैं। शादी के बाद भारत आते ही सबसे पहले उनको घंटो तक कस्टम्स और सिक्योरिटी चेक के कड़े दौर से गुजरना पड़ता है। एक नई-नवेली दुल्हन ऐसी परिस्थिति को फेस करे इस बात को आप अच्छी तरह से समझ सकते हैं। पाकिस्तान में साराह कम ही बाहर आती-जाती थी।

ऐसे में आप भारत आने के बाद फेस की गई उनकी प्रॉब्लम का अंदाजा लगा सकते हैं। तहकीकात के लिए साराह को इतने वक्त तक रुकना पड़ा कि उनको ऐसा लगा जैसे उनका हनीमून सरकारी दफतरों में ही होगा। शादी के दो महीने बाद ही वो पति के साथ मुंबई आकर रहने लगी। जीवन की गाड़ी जैसे ही ट्रैक पर चलनी शुरू हुई, साराह के पति मुस्तफा की जॉब चली गई। ऐसे वक्त में उनके साथ कोई खड़ा नजर नहीं आया।

एक ही झटके में साराह और मुस्तफा की जिंदगी पूरी तरह से बदल गई। कुछ समय बाद दोनों को ऐसा समय भी फेस करना पड़ा जब दोनों छोटी जॉब्स ढूंढने की कोशिश करने लगे, लेकिन इसके बावजूद भी कुछ न हो सका।

साराह डिप्रेशन का शिकार हो गई। लगभग तीन महीने तक वह इसकी जद में रहीं। इसका जिक्र साराह ने कभी अपने घर में नहीं किया। वह रात भर रोती और पति मुस्तफा उस वक्त परेशान रहते थे। खाने तक के पैसे नहीं रह गए थे। रोज की तरह रात को दोनों जब पैदल घूमने निकलते थे तो एक ही आइसक्रीम शेयर किया करते थे।

उस वक्त साराह ने दुख की घड़ी को दूर करने के बारे में सोच लिया। साराह ने सोचा अब जो है वो मुस्तफा ही हैं। ऐसे वक्त में मुस्तफा का सहारा बनूं, जिसके बाद उन्हें आईडिया आया कि क्यों न पाकिस्तान में जो वो मेक-अप आर्टिस्ट का काम किया करती थीं, वहीं शुरु किया जाए। साराह ने इस बारे में मुस्तफा से बात की और दोनों ने मिलकर इसकी मार्केटिंग करना शुरू किया।

ऐसा सर्वे जो बता रहा कितने लोग हुए नोटबंदी के बाद बेरोजगार! क्या सही है ये आंकड़ा ?

आइडिया हिट हो गया। उन्हें अच्छे खासे क्लाइंट्स मिलने शुरू हो गए। इसके बाद साराह ने हर मौकों पर मुस्तफा का साथ दिया और दोनों की जिंदगी फिर ट्रैक पर लौट आई। अब साराह मेक-अप आर्टिस्ट का काम करती हैं और मुस्तफा उनकी इस बिजनेस में मदद करते हैं। दोनों इसी से अपना घर चला रहे हैं।

=>
LIVE TV